USA ने कैंसर का निकाला एक नया ईलाज

1. USA ने कैंसर का निकाला एक नया ईलाज

images%20(75)%20(17)

US के अंदर कैंसर को खत्म करने के लिए एक नए तरीके का ट्रीटमेंट चल रहा है जहां पर एक पेशेंट के ऊपर एक्सपेरिमेंट चल रहा है। उसको कैंसर किलिंग वायरस से इंजेक्ट किया गया है और शायद इस पूरे ट्रायल को करने में करीबन 2 साल लग सकते हैं। जब किसी को कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी लगती है तो उसकी बॉडी के इम्यून सिस्टम को पता नहीं चलता कि उसकी बॉडी में कैंसर जैसे कोई सेल है भी या नहीं इसीलिए वह फाइट नहीं करता।

इसीलिए इसको रोकने के लिए इम्यून सिस्टम को जगाना होगा और बताना होगा कि इस तरीके की चीज भी तेरे अंदर है जिससे तुझे फाइट करना होगा तो उस वायरस को इस तरीके से मॉडिफाई किया जाएगा और उसके शरीर के अंदर ऐसे इंजेक्ट किया जाएगा कि उस पेशेंट की बॉडी में इम्यून सिस्टम एक्टिव हो जाएगा। अब देखते है USA मे इसका क्या नतीज़ा निकलता है।

2. Mercedes-benz 300 ASR Q बनी दुनिया की सबसे महंगी कार

images%20(1)

आपसे अगर कोई पूछे कि दुनिया की सबसे महंगी कार कौन सी है तो आप शायद रोल्स-रॉयस ( Rolls-Royce ) , बुगाटी ( Bugatti ) इत्यादि का नाम लोगे। लेकिन अब ऐसा नहीं रहा क्योंकि 1955 में बनी मर्सिडीज बेंज 300 ASR Q ( Mercedes-benz 300 ASR Q) अब दुनिया की सबसे एक्सपेंसिव कार बन चुकी है क्योंकि एक ऑक्शन के अंदर यह 143 मिलियन यूएस डॉलर के अंदर बिकी है जिसको इंडियन करेंसी में कन्वर्ट करने पर 11 अरब ₹7 करोड़ रुपए होंगे।

3. क्या आप जानते है “गुडविल रैंसमवेयर अटैक” के बारे में?

IMAGE 1642498921

दोस्तों रैंसमवेयर अटैक( Ransomeware Attack) दुनिया भर में होते हैं लेकिन इंडिया के अंदर एक नए तरीके का रैंसमवेयर डिटेक्ट किया गया है जो कहलाता है गुडविल रैंसमवेयर जोकि अपने विक्टिम्स को यह कहता है कि तुम पहले गरीबों और जरूरतमंदों की मदद करो उनको फाइनेंसियल सपोर्ट करो तब जाकर तुम्हे इस रैंसमवेयर से छुटकारा मिलेगा । जैसे कि आप किसी गरीब या फिर जरूरतमंद की मदद करते हो तो तुम्हे उसकी फोटो या फिर कोई वीडियो सोशल मीडिया में शेयर करना होगा और इसका लिंक उन हैकर्स को देना होगा। ताकि उनके पास एक सबूत हो कि आपने किसी गरीब की मदद करी है तब जाकर यह रैंसमवेयर को डिक्रिप्ट करेंगे वरना आपका पूरा का पूरा सिस्टम ही खराब कर देंगे तो यह एक नए तरीके का रैंसमवेयर अटैक है । लेकिन हां यह जरूर कह सकते है कि किसी अच्छे इंसान ने जरूरतमंदों की मदद करने के लिए यह बनाया हैं। 

images%20(8)

4. माउथ ऑफ हेल का खड्डा धीरे धीरे बढ़ता जा रहा है।

  रसिया के सर्बिया (serbiya )के अंदर एक बहुत बड़ा खड्डा है जो कि करीबन 282 फीट गहरा है अब वह धीरे-धीरे एक किलोमीटर चौड़ा हो चुका है इसको माउथ ऑफ हेल ( Mouth of Hell ) भी कहा जाता है। ना जाने क्यों यह धीरे धीरे नीचे की तरफ धसता जा रहा है और इसका आकार भी बढ़ता जा रहा है यह हर साल करीबन 10 मीटर चौड़ा हो जाता है।

5. चेन्नई में एथर एनर्जी के व्हीकल पर लगी आग

दोस्तों अभी तक बहुत से इलैक्ट्रिक व्हीकल के अंदर आग लगी है यहीं पर एथर एनर्जी (Ather energy) जो एक इलेक्ट्रिक व्हीकल बनाते हैं ।उनके चेन्नई के शोरुम में ही आग लग गई और अभी तक पता नहीं चला कि आग का कारण क्या था हालांकि आग इतनी ज्यादा बढ़ी नहीं उसको पहले ही रोक दिया गया था । अब यह पता लगाने की कोशिश कर रहे है कि यह आग लगी कैसे ।

6. इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर जाने से पहले एस्ट्रोनॉट को चार महीनों के लिए भेजा जाता है कॉन्कॉर्डिया पर

images%20(4)

इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (International Space Station) पर जो भी एस्ट्रोनॉट जाते हैं वह सबसे पहले कॉन्कॉर्डिया( concordia )नाम के बेस पर जाते हैं जो कि अंटार्कटिका के अंदर मौजूद है और यहां पर इन्हे साल में एक बार चार महीने के लिए भेजा जाता है। किसी भी एस्ट्रोनॉट को इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर भेजने से पहले कॉन्कॉर्डिया पर चार महीने की ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता हैं।कॉन्कॉर्डिया में सूरज भी देखने को नहीं मिलता और वहा पर बहुत अंधेरा होता है। वहां पर विंटर तब शुरू होता है जब यहां पर बहुत ज्यादा गर्मी शुरू हो जाती है दरअसल वहां पर मार्च से लेकर अक्टूबर तक विंटर रहता है और जब यहां सर्दी होती है तो वहां गर्मियां रहती है। हालांकि वहां पर गर्मी के समय में भी तापमान माइनस 10 डिग्री सेल्सियस तक रहता है और सर्दियों में माइनस 80 डिग्री सेल्सियस रहता है । वहां पर इनकी जिंदगी आइसोलेशन वाली होती है।इनको वहां पर इसलिए भेजा जाता है ताकि वह ऐसे माहौल में रिसर्च करने की आदत डाल ले क्योंकि भविष्य में उन्होंने इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में जाकर भी रिसर्च करना है।

7. व्हाट्सअप काम कर रहा है अपने नए फीचर के लिए जिसमें आप अपने लास्ट सीन को भी हाइड कर सकते हो

images

दोस्तों व्हाट्सअप काम कर रहा है अपने नए फीचर के लिए जिसमें आप अपना लास्ट सीन हाइड कर सकते हो , इतना ही नहीं बल्कि आप यह भी दिखा सकते हो कि आप ऑनलाइन हो ही नहीं चाहे आप व्हाट्सअप चला भी रहे हो फिर भी सामने वाले को पता नहीं चलेगा कि आप ऑनलाइन हो। शायद आपमें से बहुत सारे लोगों को व्हाट्सअप का यह अपडेट पसंद भी ना आए लेकिन व्हाट्सएप आने वाले वक्त में यह फीचर भीं लेकर आने वाला है।

8. आइसलैंड के अंदर दुनिया का सबसे बड़ा कार्बन कैप्चरिंग प्लांट लॉन्च किया गया है

88520F8F 89DD 4857 99B5

दोस्तों आइसलैंड के अंदर दुनिया का सबसे बड़ा कार्बन कैप्चरिंग प्लांट ( Carbon Capturing Plant ) लगाया गया है जो इस दुनिया से करीबन 0.001% का CO2 लेवल कम कर देगा । दोस्तों हम लोग साल भर में 36 बिलियन टन CO2 रिलीज करते हैं इस एनवायरमेंट के अंदर और उसका सिर्फ यह 0.0001% तक ही कैप्चर कर सकता है । आप सभी को बड़े अच्छे से मालूम होगा कि अब फैक्ट्री हो गईं , इंडस्ट्रियल प्लांट हो गए जहां पर इस तरीके के काम होते है जहां से CO2 निकलता रहता है तो अगर वहीं पर ही इसे लगा दे तो शायद ही कुछ फिल्टरेशन हो सकती है। लेकिन हां नेचर से बढ़िया कोई भी सॉल्यूशन नहीं दे सकता । इस धरती के ऊपर पेड़-पौधे लगे हुए हैं लेकिन धीरे-धीरे करके उनको काटा जा रहा है जिसकी वजह से आजकल यह हालात आ गए है कि बड़े-बड़े कार्बन कैप्चरिंग प्लांट लगाए जा रहे हैं। लेकिन अभी भी हम कुछ कह नहीं सकते कि इसे कितना टाइम लग जाएगा क्योंकि हम लोगों ने इतने पेड़ काट डाले है कि अब हमें CO2 को कम करने में बहुत टाइम लग सकता है।

Leave a Comment