E-Rupee या Digital Rupee क्या हैं ? गवर्नमेंट ने इसे क्यों बनाया हैं ?

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले है E-Rupee या Digital Rupee के बारे में जिसे RBI ने इंडिया के अंदर लॉन्च भी कर दिया हैं । अब यहां पर बहुत से लोगों का एक सवाल होता हैं कि Cryptocurrency क्या है ? क्या इंडिया की खुद की क्रिप्टोकरेंसी आ चुकी हैं ? यह कैसे काम करता है ? इससे चीजें कैसे खरीद सकते हैं ? इससे क्या बदलाव आने वाला हैं ? आज के इस आर्टिकल में हम इन्हीं चीज़ों के ऊपर बात करेंगे ।

E-Rupee और Cryptocurrency में क्या डिफरेंस हैं ?
E-Rupee या Digital Rupee यह क्रिप्टोकरेंसी नहीं है । आपकी जानकारी के लिए बता दे कि क्रिप्टोकरेंसी की जो Transaction हैं वो हमेशा Blockchain में दर्ज़ होती है। लेकिन यहां पर RBI द्वारा लॉन्च किया गया E-Rupee या Digital Rupee यह कैश जैसा होता है लेकिन यह कैश नहीं है बल्कि यह डिजिटल है। इसकी वैल्यू कभी भी घटती-बढ़ती नहीं है , इसकी वैल्यू उतनी ही रहेगी जितनी रूपये की वैल्यू होती हैं जैसे _ आपके पास 1 डिजिटल रूपी है तो इसकी वैल्यू 1 रूपये कैश के बराबर ही होगी । क्रिप्टोकरेंसी के साथ ऐसा नहीं होता बल्कि क्रिप्टोकरेंसी में आज वैल्यू कम है तो कल ज्यादा हो सकती है ।

क्या E-Rupee या Digital Rupee से कोई चीज़ ख़रीद सकते है ?
दोस्तों अभी चार बैंकों के साथ मिलकर Pilot Project चलाया गया है उसमें आप चीजें खरीद सकते हो और एक व्यक्ति से दूसरे  व्यक्ति को ट्रांसफर भी किया जा सकता हैं। इसे RBI रेग्यूलेट कर रहा है तो यह बिल्कुल रूपए जैसा ही हैं ।

गवर्नमेंट ने E-Rupee या Digital Rupee को क्यों बनाया हैं ?
गवर्नमेंट ने E-Rupee या Digital Rupee को इसीलिए बनाया है ताकि उस खर्चे को कम किया जा सके जो खर्च रुपए को बनाने में , सिक्कों को बनाने में या फिर नोट को छापने में लगता हैं । अगर डिजिटल करेंसी होगी तो यह एक मोबाइल से दूसरे मोबाइल वॉलेट में आसानी से चली जाएगी और नोट छापने में जो खर्चा होता है वो भी कम हो जाएगा । यह बिल्कुल कैश जैसा ही है और इसमें आपको Interest भी नहीं मिलेगा । जैसे _ अगर आप मोबाइल वॉलेट में 100 रूपये रखते है तो आज से 10 साल बाद भी वो 100 रूपये ही रहेगा । ऐसे ही अगर आप Digital Rupee को अपने पास रखेंगे तो इसपर आपको कोई interest नहीं मिलेगा । यह क्रिप्टोकरेंसी नहीं हैं और यह कैश को रिप्लेस करने के लिए बनाई गई हैं । यह सिर्फ उस खर्चे को कम के लिए बनी हैं जो नोट प्रिंट करने में लगते है , जो सिक्कों को बनाने में लगते हैं , जो उसे रेग्यूलेट  करने में लगते है तो उससे बचने के लिए यह Digital Rupee बनाया गया हैं ।

Digital India तभी होगा जब पैसे भी डिजिटल होंगे और e-Rupee भी डिजिटल फॉर्म में हैं । अभी कुछ बड़े-बड़े शहरों में जैसे_दिल्ली , मुंबई , बेंगलुरु , भुवनेश्वर ऐसे जगहों पर पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर चलाया गया है । इसकी पेमेंट आप नॉर्मल QR code से स्कैन करके भी कर सकते हैं । इसकी एक बहुत अच्छी बात यह है कि इसकी पूरी पकड़ RBI के पास हैं जबकि क्रिप्टोकरेंसी की पकड़ किसी के पास नहीं होती। क्रिप्टोकरेंसी की Transaction हमेशा Blockchain में दर्ज़ होती है जबकि Digital Rupee में जितनी भी ट्रांजैक्शन होगी उसका रिकॉर्ड RBI के पास होगा और इसे Central Bank Digital Currency ( CBDC ) भी कहा जाता हैं । अगर यह इंडिया में पूरी तरह कामयाब रहा तो आने वाले टाइम में इंडिया के अंदर डिजिटल रूपी चलने लगेंगे। 

Leave a Comment