5G स्पेक्ट्रम ऑक्शन क्या है

images

दोस्तों जिसकी चर्चा कई सालों से चल रही थी 5G स्पेक्ट्रम की अब वो बहुत जल्द लॉन्च होने वाला है शायद अक्टूबर तक यह लॉन्च हो जाए । 5G स्पेक्ट्रम ऑक्शन 26 जुलाई से शुरू हुआ था और 1 अगस्त को जाकर खत्म हुआ है । यह ऑक्शन सात दिनों तक चला था जिसमें कुल मिलाकर 40 राउंड हुए थे ।यह ऑक्शन कंपलीट हुआ करीबन 1.5 लाख करोड़ रुपये में और अगर सारी दुनिया में सबसे एक्सपेंसिव 5G स्पेक्ट्रम ऑक्शन कहीं हुआ है तो वो इंडिया के अंदर ही हुआ है । इसमें बड़ी-बड़ी टेलीकॉम कंपनियां जैसे रिलायंस जिओ , भारती एयरटेल , वोडाफोन-आइडिया ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया है । इसमें एक एक नए ग्रुप की एंट्री हुई है अदानी ग्रुप ।जब 5G इंटरनेट मार्केट में आएगा तो सारा काम इसी से होगा , एक तरह से आप यह कह सकते हो कि यह पूरी ही दुनिया बदल जाएगी ।

किसने कितना इंवेस्टमेंट किया है ? 

images%20(6)

1 ) सबसे ज्यादा इंवेस्टमेंट जियो ने किया है 88000 करोड़ रुपए 

2 ) दूसरे नंबर पर आता है भारती एयरटेल जिसने 43000 करोड़ रुपये का इनवेस्टमेंट किया है 

3 ) तीसरे नंबर पर वोडाफोन आइडिया आता है जिसने 19000 करोड़ रुपये का इनवेस्टमेंट किया है 

4 ) आखिरी में आता है अदानी ग्रुप जिन्होंने 212 करोड़ रुपये का इनवेस्टमेंट किया है वो भी पहली बार में ।

क्या 5G भी 4G की तरह सस्ता होगा ?

 यहां पर एक सवाल यह आता है कि क्या क्या 5G भी 4G की तरह सस्ता होगा ? हालांकि 4G भी अब धीरे-धीरे एक्सपेंसिव होता जा रहा है और इसके प्राइस बढ़ते जा रहे हैं। लेकिन सुनने में यह आया है कि 5G के लिए आपको प्रीमियम पे करना पड़ेगा क्योंकि इन बड़ी-बड़ी कम्पनियों ने करोड़ों रुपये लगाए हैं 5G स्पेक्ट्रम के ऊपर जहां पर सबसे ज्यादा पैसा जिओ ने लगाया है जब इन कम्पनियों ने इतना ज्यादा इनवेस्टमेंट किया है तो रिटर्न भी तो अच्छा मिलना चाहिए ।इसी वजह से आपको प्रीमियम प्राइस पे करना पड़ेगा वो भी 4G से ज्यादा और शायद यह प्राइस दुगना भी हो सकता है । अगर आप किसी हाई स्पीड ब्रॉडबैंड ले रहे हो या फिर फाइबर ऑप्टिक का कोई प्लान ले रहे हो तो जितनी हाई स्पीड पर जाओगे उतना ही आपको पे करना पड़ेगा तो उस हिसाब से ही आपको 5G के अंदर भी उतना ही पे करना होगा ।लेकिन आपका नेटवर्क जो अभी 4G में चल रहा है वो तो इम्प्रूव होने वाला है इस बात की पूरी-पूरी गारंटी है ।आपको नोटिफिकेशन भी आया होगा कि अपना Volta ऑन कर लो क्योंकि आपका नेटवर्क अब 5G की तरफ जा रहा है तो अच्छी स्पीड के लिए आपको ये ऑन करना पड़ेगा तो 4G वालों को भी यहां पर फायदा होने वाला है ।

अंदाजा लगाया जा रहा है कि जो 5G होगा वह 4G के मुकाबले 10% से 12 % मंहगा होगा। अब आप अनुमान लगा सकते है कि यह कितने महंगा हो सकता है।सुनने में यह आ रहा है कि जिस पैटर्न से 4G लॉन्च हुआ था उसी पैटर्न से 5G भी लॉन्च होगा ।

क्या 5G नेटवर्क को यूज़ करने के लिए हमे 5G फ़ोन खरीदना होगा ?

5G spectrum auction

अब यहां पर बहुत सारे लोग कहेंगे कि इस नेटवर्क के लिए हमें अब 5G वाला फ़ोन खरीदना होगा।लेकिन अभी ऐसा बिल्कुल भी नहीं है अगर आपके पास में 4G फ़ोन है तो उससे भी काम चल जाएगा जितनी भी वो मैक्सिमम स्पीड खींच सकता है वो उतनी खींचेगा। ऐसा नहीं है की आपको 5G वाले स्मार्टफोन ही चाहिए क्योंकि नेटवर्क को कुछ इस तरीके से स्प्रेड किया जाएगा कि जो 4G फ़ोन की जो भी कैपेबिलिटी होगी, आप उससे भी काम चला सकते हो ।

लेकिन फिर आप कहोगे क्या 4G प्राइस में मैं इस नेटवर्क को एन्जॉय कर सकता हूं ? जी हाँ, ऐसा तो होगा लेकिन फिर भी जिनको 5G की मैक्सिमम स्पीड चाहिए होगी अगर उनके पास 5G फ़ोन है तो वह लोग यूज कर पाएंगे, लेकिन आपके 4G फ़ोन से भी काम चल जाएगा उसकी जो मैक्सिमम कैपेबिलिटी है, आप उसका यूज़ कर पाओगे ।

5G को यूज करने के लिए क्या हमे सिम चेंज करना होगा जैसे हमने 3G से 4G में जाने के लिए किया था ?

images%20(3)

 अब यहां पर एक सवाल आता है कि क्या आपको सिम चेंज करना पड़ेगा जैसे 3G से 4G में जाने के लिए किया था ?दोस्तों यहां पर 4G का सिम कैपेबल हैं 5G की स्पीड के लिए तो अगर आपके पास में 5G वाला फ़ोन है तो आपका 4G सिम भी काम करेगा 5G नेटवर्क के लिए ।वैसे भी ज्यादातर लोगों के पास में जिओ का सिम है क्योंकि कईयों के पास जिओ का सिम तब आया था जब जिओ फ्री का इंटरनेट दे रहा था और तब से लेकर अब तक उनके साथ में टिका हुआ है और बाकियों ने तब लेना शुरू कर दिया जब जिओ ने अपने प्लान काफी ज्यादा सस्ते कर रखे थे । यहां पर जिओ ने सबसे ज्यादा मजेदार चीज़ ये करी है, यह उनका मास्टरस्ट्रोक भी कहा जा सकता है कि उन्होंने इस ऑक्शन में बहुत सारे बैंड खरीदे हैं जहां पर 700 Mhz वाला एक बैंड उन्होंने खरीदा है जिसके लिए उन्होंने सबसे ज्यादा पैसे दिए है ।इससे क्या होगा कि यह 700 मेगाहर्ट्ज़ बैंड यह कवर करता है पॉपुलेटेड रीज़न को जहां पर बहुत सारे स्मार्टफोन चल रहे हैं उन रीज़न को कवर करता है वैसे तो और भी कई सारे ब्रैन्डस मौजूद है लेकिन सभी बैंड को सपोर्ट करने वाले फ़ोन सिर्फ या तो प्रीमियम फ़ोन होते हैं जैसे कि iPhone 13 series और Samsung Galaxy S22 Ultra जिसके अंदर सभी बैंड्स मौजूद है जोकि जिओ, एयरटेल , वीआई यूज़ करने वाले हैं लेकिन ठीक है जिनके पास में नहीं है वो उनका भी काम चल जाएगा ऐसा नहीं है की उनको बस प्रीमियम फ़ोन लेने पड़ेंगे तो ये उनकी तो स्पीड ही अलग जाती है । लेकिन फिर भी आपको यहां पर अच्छी स्पीड मिल जाएगी।

4G प्लान एक्सपेंसिव क्यों हो रहे है ?

दोस्तों यहां पर 4G के प्लान भी थोड़े से एक्स्पेन्सिव होने जा रहे हैं इन कम्पनियों ने पार्ट में डिवाइड कर रखा है कि किस तरीके से हमे प्राइस बढ़ाने है क्योंकि अभी एकदम से प्राइस बढ़ा दिए तो पब्लिक बहुत ज्यादा भड़क जाएगी इसलिए यह धीरे- धीरे करके प्राइस बढ़ा रहे है ताकि लोगों को यह ना लगे कि प्राइस एकदम से बढ़े है ।अभी तो फिलहाल इन्होंने दो बार प्राइस बढ़ा दिए है और अभी दो-तीन बार और बढ़ाने है और 2023 तक ये ऐसा ही करने वाले हैं, और रही बात 5G की तो 5G के लिए तो आपको प्रीमियम पे करना ही पड़ेगा। इनका यह भी कहना है कि हम आपके 5G के प्लान कुछ इस तरीके से कर देंगे कि सारी दुनिया के अंदर सबसे सस्ता 5G प्लान सिर्फ इंडिया के अंदर मिलेगा यानी कि अमेरिका, Uk के मुकाबले सस्ता होगा ।

इंडिया के अंदर 5G का टैस्टिंग कहां-कहां पर हो रहा हैं?

images%20(4)

इसकी टैस्टिंग भोपाल के स्टेशन, बस स्टॉप , ट्रैफिक लाइट इन सभी जगहों पर 5G टेस्ट हो रहा है। यह भारत का सबसे पहला शहर बना है जहा पर 5G का टेस्ट हुआ है। इसके बाद दिल्ली के इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर चेक किया गया , बेंगलुरू में चेक किया गया, गुजरात के कच्छ में चेक किया गया यह कुछ ऐसी जगह है जहां पर 5G को टेस्ट किया गया । इस टैस्टिंग का रिज़ल्ट बहुत अच्छा आया है और जब भी यह सर्विस मार्केट में आएगी तो धमाल ही मचा देगी यह बहुत फास्ट इंटरनेट सर्विस है ।

5G स्पेक्ट्रम इतना जरूरी क्यों है ? 

images%20(5)

यह ऑक्शन 72 गीगाहर्ट्ज़ के लिए हो रहा है जिसमें सबसे पहले इनवेस्टमेंट जिओ ने किया है। यह सर्विस इस साल के अंत तक कुछ ही शहरों में आयेगी जैसे दिल्ली , कोलकाता, बेंगलुरु , पुणे इत्यादि आपको इन बड़ी-बड़ी सिटी में 5G सर्विस देखने को मिलेगा । इंडिया के बाकी सभी जगहों में 2023 के मध्य तक यह लॉन्च होना शुरू हो जाएगा और यह सब डिपेंड करता है इन कंपनियों पर क्योंकि ऑक्शन में इन कंपनियों को स्पेक्ट्रम तो मिल गया लेकिन इसके बाद मार्केट में कब लॉन्च करना है और इनका प्राइस कितना रखना है यह सब इनके हाथों में है । 

Leave a Comment