रेलवे स्टेशन पर कितनी लापवाही से एमेजॉन के पार्सल को निकाला जा रहा है

1. रेलवे स्टेशन पर कितनी लापवाही से एमेजॉन के पार्सल को निकाला जा रहा है

railway parcels

दोस्तों हम सभी एमेजॉन और फ्लिपकार्ट से ऑनलाइन शॉपिंग तो करते ही होंगे और बेसब्री से अपने ऑर्डर के आने का इंतजार करते है कि हमारा ऑर्डर कल आयेगा , लेकिन डिलिवरी का हाल इतना बुरा है जिसे सुनकर आप भी हैरान हो जाओगे ।हाल ही में गुवाहाटी रेलवे स्टेशन पर एक इंसिडेंट हुआ था जहां डिब्रूगढ़ राजधानी एक्सप्रेस रुकी थी ।यहां पर एमेजॉन का पार्सल निकाला जा रहा था जिसमें सामान को हवा में इधर से उधर फेंका जा रहा था इसमें किसी का एलईडी टीवी भी हो सकता है या फिर आईफोन भी हो सकता है । लोग बहुत मेहनत करके अपने लिए सामान मंगवाते है और यह लोग इतनी लापवाही दिखाकर लोगों का सामान को ऐसे फेंकते है ।यहां पर सारी गलती रेलवे डिपार्टमेंट की भी है जो इन सामान को ऐसे हवा में उझालने दे रहे है ।यहां पर ना एमेजॉन की गलती है और ना ही सेलर की गलती है क्योंकि सेलर भी नहीं चाहेगा कि उसके पैकेज का ऐसा हाल हो । सेलर बहुत मेहनत से अपने प्रोडेक्ट को अच्छे से पैक करके भेजते है ताकि सामान टूटे नहीं और कस्टमर उसे रिटर्न ना करें । कई बार कस्टमर्स को भी प्रॉबलम हो जाती है क्योंकि जब उनके पास टूटा हुआ प्रॉडक्ट आता है और कई बार तो यह सामान बीच रास्ते में ही निकाल लिया जाता है और उसमें कुछ भी भरकर कस्टमर्स तक पहुंचाया जाता है ।फिर कस्टमर्स सेलर और एमेजॉन से लड़ते रहते है क्योंकि किसी को पता ही नही चलता कि यह सामान तो बीच रास्ते से ही किसी ने गायब कर दिया है ।

2. Corsair एक ऐसा बेंडेबल कर्व मॉनिटर बना रहा है जिसे आप अपने हाथों से भी मोड़ सकते हो 

Flexhero2

दोस्तों एल जी का रोलेबल डिस्प्ले को तो आपने देख ही लिया होगा जिसे शाहरुख खान ने अपने घर पर भी लगवा रखा है क्योंकि वो उस इवेंट के अंदर मौजूद थे तो उनके पास में तो यह रोलेबल डिसप्ले होना ही था ।यही पर Corsair काम कर रहे है अपने कर्व मॉनिटर पर लेकिन अब आप कहोगे यह बेंडेबल कर्व मॉनिटर ( Bendable Curve Monitor ) होगा जिसके ऊपर यह काम कर रहे है हालांकि प्रोटोटाइप स्टेज के अंदर जहां पर यह गेमिंग मॉनिटर होगा वही पर यह OLED पैनल भी होगा और इसको पकड़ के कर्व किया जा सकता है । अभी यह उतने अच्छे से कर्व नहीं हो रहा है लेकिन जब Corsair अपना फाइनल वेरिएंट लॉन्च करेंगे तो वह बहुत ही अच्छे से काम करेगा और उसमें उतनी ज्यादा हार्डनेस नहीं होगी ।

3. नेटफ्लिक्स ने अपने नए Ad-Supported Plan के प्राइस को रिवील किया 

images%20(1)

यही पर दोस्तों जितने भी लोग नेटफ्लिक्स का यूज़ करते हैं उनके लिए ऐड-सपोर्टेड प्लान भी बहुत ही जल्द आने वाला है जोकि सस्ता होगा कितना सस्ता होगा इस बात का खुलासा अब नेटफ्लिक्स ने कर दिया है कि जितना वो नोर्मल्ली चार्ज करते हैं उससे आधा चार्ज करेंगे।आपके जो पॉपुलर सीरीज और मूवीज होंगे उनके बीच-बीच में आपको ऐड देखने को जरूर मिलेंगे लेकिन जो नए वैब सीरीज होंगी उनमें आपको ऐड देखने को नहीं मिलेगा क्योंकि इस सीरीज के लिए सबसे पहले हाइप क्रिएट की जायेगी। इसी के साथ-साथ बच्चों के कंटेंट भी ऐड फ्री होंगे उनमें भी आपको ऐड देखने को नहीं मिलेंगे।

4. रिलायंस जियो का ऐलान : 2023 तक सबसे पहले 5G नेटवर्क को पूरे भारत में फैला देंगे

images%20(2)

दोस्तों आप सभी को बहुत अच्छे से मालूम होगा कि बहुत जल्द 5G नेटवर्क आने वाला है और धीरे-धीरे करके यह सभी जगह में आ जायेगा। यही पर रिलायंस का कहना है कि हम अपने 5G नेटवर्क को 2023 तक सबसे पहले पूरे भारत में फैला देंगे। अभी हाल भी में 5G ऑक्शन हुआ था जिसमे सबसे ऊंची बोली रिलायंस जियो ने लगाई थी और यह अगले साल तक धीरे धीरे करके पूरे भारत में फैल जाएगा ।

5. बिहार : कैसे रेलवे में नौकरी पाने के लिए एक कैंडिडेट ने पूरी प्लानिंग करके अपने दोस्त को ही इस एग्जाम में बिठा 

images%20(3)

दोस्तों गवर्नमेंट जॉब पाने के लिए बहुत सारे कॉम्पेटिटिव एग्जाम होते है लेकिन उसने सिर्फ इंटेलीजेंट कैंडिडेट ही सिलेक्ट हो पाता है । लेकिन कुछ लोग चीटिंग करके पास होने की कोशिश करते है जैसा कि मुन्नाभाई एमबीबीएस में हुआ था । दरअसल, बिहार के अंदर रेलवे की भर्ती के लिए एग्जाम चल रहे थे जहां पर बायोमैट्रिक वेरिफिकेशन भी होनी थी जिसमें अंगूठे के निशान लिए जाते है । आपने अक्सर देखा होगा कि ज्यादातर एग्जाम में किसी और को बिठाकर एग्जाम दिलवाया जाता है । यही पर एक कैंडिडेट ने अपने एग्जाम में अपने दोस्त को बिठा दिया और बायोमैट्रिक के लिए भी एक अनोखा जुगाड़ लगाया जिस कैंडिडेट ने एग्जाम देना था उसने अपने हाथ के अंगूठे की स्किन निकाल कर अपने दोस्त के हाथो में चिपका दिया ताकि वेरिफिकेशन में कोई दिक्कत ना आए । वहां पर आधार कार्ड की वेरिफिकेशन हो गई और लेफ्ट हैंड का बायोमैट्रिक भी हो गया ।लेकिन एग्जाम देते वक्त उसने राइट हैंड का इस्तेमाल किया जिसकी वजह से वहां पर जो एग्जामिनर था उसको लगा कि कुछ गड़बड़ है और फिर उसका हाथ चैक हुआ तो पता चला कि इसने फेवीक्विक से किसी और की स्किन चिपका रखी है जिसके बाद में उन दोनों को पुलिस पकड़कर ले गई ।इस चीटिंग और फ्रॉड के चक्कर में अब दोनों ही का करियर बर्बाद हो चुका है ।

6. हैरानी की बात है : अपने अन्तिम संस्कार के दूसरे दिन ही एक मरी हुई बच्ची फिर से जिंदा हो गई 

images 1661686881423

दोस्तों आपने सुना ही होगा जीवन हमारे हाथों में नही है यह सब भगवान की देन है जो इस धरती पर पैदा हुआ है उसको एक दिन मरना जरूर है लेकिन कभी आपने देखा है कोई मरने के बाद फिर से जिंदा हो गया हो ?एक ऐसा ही चमत्कार मेक्सिको सिटी मे हुआ जहां पर डॉक्टर ने इलाज के दौरान 3 साल की बच्ची को मृत घोषित कर दिया था लेकिन जब उसके अंतिम संस्कार की तैयारी चल रही थी तो ताबूत में बंद यह बच्ची फिर से जिंदा हो गई।उसके बाद उस बच्ची की मां ने लोकल अस्पताल (local hospital) पर लापरवाही का आरोप लगाया। उसने बताया कि बच्ची को उल्टी , पेट में दर्द और बुखार हो गया था जिसकी वजह से पहले वह उसे एक चाइल्ड स्पेशलिस्ट के पास लेकर गई थी ।बच्ची की हालत को देखते हुए चाइल्ड स्पेशलिस्ट ने उसे एक बड़े हॉस्पिटल में रेफर किया जहां पर बच्ची का डिहाइड्रेशन और बुखार का इलाज किया गया था और इलाज के बाद उसे घर ले जाने के लिए कहा गया ।लेकिन इसके बावजूद भी बच्ची की तबियत में कोई सुधार नहीं हुआ इसीलिए बच्ची को कई सारे दूसरे हॉस्पिटल में भी लेकर गए लेकिन कोई फायदा नही हुआ ।न्यूयॉर्क पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार उस बच्ची को आईवी ड्रिप के लिए हॉस्पिटल लेकर गए थे लेकिन टाइम पर ऑक्सीजन ना मिलने के कारण कुछ देर बाद डॉक्टर ने उस बच्ची को मरा हुआ घोषित कर दिया और मौत का कारण डिहाइड्रेशन को बताया ।जब बच्ची के अंतिम संस्कार की तैयारी चल रही थी तभी उस बच्ची की मां ने देखा कि जिस ताबूत के कांच में बच्ची को रखा गया है वहां शीशे में भाप जैसा कुछ है लेकिन किसी ने उसकी ना सुनी । फिर उस बच्ची की दादी ने भी बच्ची की आंख को हिलते हुए देखा जिसके बाद उस बच्ची को ताबूत से बाहर निकाला गया और उस बच्ची को तुरंत हॉस्पिटल लेकर गए लेकिन जब तक डॉक्टर्स ने उस बच्ची का चेकअप किया तब तक वह बच्ची फिर से मर चुकी थी । अब उस बच्ची की मां ने हॉस्पिटल पर लापरवाही का आरोप लगाया है कि डॉक्टर्स की गलती की वजह से उनकी बच्ची अब इस दुनिया में नहीं है ।

7. क्यों नोएडा के सुपरटेक ट्विन टावर्स को रिमोट-कंट्रोल से ब्लास्ट करके नष्ट किया गया ? क्यों पूरी दुनिया की नजरें इस बिल्डिंग पर टिकी हुई है 

images%20(2) 1661686880939

दोस्तों नोएडा के सुपरटेक के ट्विन टावर को कल नष्ट किया गया है। इस टावर पर ना केवल भारत बल्कि पूरे विश्व के लोगों की नजरें है । एक्सप्लोजन जोन ( Explosion Zone ) में कई सारे पुलिसवाले , रिजर्व फोर्स , क्विक रिस्पांस टीम समेत NDRF टीम को भी तैनात किया गया है इन दोनों टावर को 15 सेकेंड में ही वाटरफॉल इम्प्लोजन टेक्निक ( Waterfall Implosion Technique ) से गिराया गया और यह दोनों टावर कुतुब मिनार से भी ऊंचे है ।कई सारे लोगों का कहना है कि यह भारत की अब तक कि सबसे ऊंची इमारतों में से एक हैं जिनको ऐसे नष्ट किया जा रहा है । अब आपके दिमाग में यही चल रहा होगा कि क्यों इस ट्विन टावर को ढहाया जा रहा है ।

दोस्तों 23 नवंबर, 2004 को नोएडा एडमिनिस्ट्रेशन ( Noida Administration ) ने सेक्टर सेक्टर- 93A के प्लॉट नंबर 4 को एमराल्ड कोर्ट के लिए अलॉट किया था और उस समय सिर्फ 9 मंजिल और 14 टावर बनाने की अनुमति मिली थीलेकिन असली खेल तब शुरु हुआ जब 2012 में 9 मंजिल की बजाय इन्हें 40 मंजिल तक बनाए जाने की मंजूरी दी गई।अब इन दोनों मंजिल की ऊंचाई 121 मीटर थी और इन दोनों टावर के बीच 8 से 9 मीटर रखी गई बल्कि वास्तिवकता में यह दूरी कम से कम 16 मीटर होनी चाहिए थी ।

images%20(2)

इस टावर को बनाने के लिए सुपरटेक कंपनी को 13.5 एकड़ जमीन अलॉट किया गया था जिसमे से 90% एरिया में कंस्ट्रक्शन का काम पूरा हो गया था बाकी के 10% एरिया को ग्रीनरी जॉन के लिए रखा गया था लेकिन फिर से दो नए टावर बनाए जाने की खबरे आ रही थी। उसके बाद 1.6 एकड़ में दो ऊंची इमारतों के निर्माण का काम शुरू हो गया। अब आप खुद ही इस बात का अंदाजा लगा सकते है कहां 12 एकड़ एरिया में 900 परिवार रहते थे और वही दूसरी ओर 1.6 एकड़ एरिया में उतने ही और लोगों को बसाने की तैयारी कर रहे थे । पहले यह मामला इलाहाबाद हाई कोर्ट में गया था लेकिन इस फैसले के खिलाफ़ जाकर सुपरटेक कंपनी इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में भी लेकर गए । कोर्ट में करीबन सात साल तक कानूनी लड़ाई लड़ी गई उसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने भी 31 अगस्त 2021 को इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को बरकरार रखते हुए इस इमारत को तीन महीने के अंदर ही गिराने का आदेश दिया है ।सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार, ट्विन टावर को रविवार को गिराया गया और इसको ढहाने में 9 से 12 सेकंड का समय लगा ।ट्विन टावरों को बनने में करीबन 200 करोड़ रुपये से ज्यादा का खर्चा हुआ था और वही पर इसको गिराने का खर्चा 20 करोड़ रुपये बताया जा रहा है जिसमे से 5 करोड़ रुपये सुपरटेक दे रही है और बाकी के 15 करोड़ रुपये मलबे को बेचकर इकट्ठे किए जाएंगे।

8. सैमसंग ने हाल ही में अपने Samsung Galaxy Watch 5 को रिवील किया लेकिन अभी तक इसकी कीमत का खुलासा नहीं किया गया है ।

images%20(1)

दोस्तों सैमसंग ने हाल ही में अपने गैलेक्सी अनपैक्ड इवेंट 2022 में स्मार्ट वॉच सीरीज 5 को भारत में लॉन्च किया था।इस सीरीज के अनुसार ही सैमसंग ने Samsung Galaxy Watch 5 और Galaxy Watch 5 Pro को मार्केट में लॉन्च किया है। सैमसंग ने अपने इस मेगा इवेंट में Samsung Galaxy Z Fold 4 और Galaxy Z Flip 4 को भी लॉन्च किया गया।

सैमसंग की इस Galaxy Watch 5 सीरीज में बायोएक्टिव सेंसर के साथ हार्टरेट ( heartrate ) , स्ट्रेस लेवल और SpO2 को नापा जा सकता है ।इसके साथ ही इस वॉच मे ECG और ब्लड प्रेशर मॉनिटर जैसे फीचर्स भी हैं। यह वॉच तीन कलर वेरिएंट में मौजूद है _ ग्रेफाइट, स्फीयर और सिल्वर कलर में लेकिन कम्पनी ने अभी तक इसकी कीमत का खुलासा नहीं किया है 

Leave a Comment