यूएस के एक व्यक्ति ने टेस्ला कार को अनलॉक करने के लिए अपने हाथ में ही फोब चिप लगवाई

1. यूएस के एक व्यक्ति ने टेस्ला कार को अनलॉक करने के लिए अपने हाथ में ही फोब चिप लगवाई

images

दोस्तों यूएस के अंदर एक किस्सा हुआ जहां ब्रैंडन डैली ( Brandon Dalaly ) नाम का एक व्यक्ति जो इतना ज्यादा सुस्त था कि जेब से चाबी ना निकालनी पड़े इसीलिए उसने अपने हाथ में ही टेस्ला कार की फोब चिप ( fob chip ) लगवाई है जिसका यूज़ वह अपनी कार को अनलॉक करने के लिए करता हैं। अब यह सबको अपनी खुशी जाहिर करते हुए कह रहा है कि मैं बहुत फ्यूचरिस्टिक ( futuristic ) हूँ ,  टैक क्रेजी हूँ, मेरे पास भी अब सुपरहीरो की तरह पावर है ।

2. यूएसए के न्यूयॉर्क के अंदर बहुत जल्द ऐंटी स्पीडिंग टेक्नोलॉजी लागू होने वाला है ताकि कार की स्पीड को कंट्रोल करके रोड एक्सिडेंट से बच सके

दोस्तों रोड पर होने वाले एक्सीडेंट की वजह से हज़ारों-लाखों लोगों की जान ऐसे ही चली जाती है जिसमें सिर्फ एक ही चीज़ कसूरवार होती है स्पीड ।जब स्पीड काफी ज्यादा होती है तो यह लोगों के लिए जानलेवा हो सकती है और इसी वजह से यूरोपियन यूनियन ने 1 जुलाई को यह फैसला कर लिया था कि एक ऐसी टेक्नोलोजी बनाई जानी चाहिए जिसमे ऐंटी स्पीडिंग टेक्नोलॉजी ( anti speeding technology ) हो । हर मैन्यूफैक्चर को अपनी कार में इस टेक्नोलोजी को लगाना होगा जिससे कि कार चाहे कितनी ही पावरफुल क्यों ना हो लेकिन उसकी एक ही स्पीड सेट कर दी जाएगी । दरअसल अमेरिका के न्यूयॉर्क के अंदर भी एक बिल पास कर दिया गया है कि ऐन्टी स्पीडिंग टेक्नोलॉजी का होना बहुत ज्यादा जरूरी है।

2021 Cadillac Escalade

अब यूरोपियन यूनियन ने इस बात को उसी तरीके से कह दिया है जिस तरीके से उन्होने कहा कि सभी स्मार्टफोन के लिए एक यूनिवर्सल चार्जर होना चाहिए ।उसके बाद अमेरिका ने भी इस बात को एक्सेप्ट किया कि हरेक मोबाइल के लिए टाइप सी यूएसबी पोर्ट वाला चार्जर होना चाहिए ऐसा नहीं कि हर स्मार्टफोन कम्पनी अलग-अलग तरह के चार्जर बना रही है , इससे ई-वेस्ट बढ़ता है और इसको कंट्रोल करने के लिए सभी स्मार्टफान के लिए एक चार्जर होना चाहिए ।

अब यूएस के कैलिफोर्निया के अंदर भी एक बात कही गई है कि 2035 के बाद में कोई भी पेट्रोल-डीजल वाली कार वहां पर नहीं बिकेगी । नई कार नहीं आएगी लेकिन पेट्रोल-डीजल वाली कार सेकंड हैंड जरूर खरीद सकते हैं ।और यही कानून इंडिया के अंदर भी आने वाला है कि 2030 के बाद इंडिया के अंदर भी कोई पेट्रोल-डीजल वाली कार नहीं बिकेगी ।

3. सोनी ने पूरी दुनिया में PS5 के प्राइस 10% तक बढ़ा दिए है लेकिन यूएसए में प्राइस को नहीं बढ़ाया गया 

images%20(3)

दोस्तों जितने भी लोग अब तक यह सोच रहे थे कि सोनी के प्लेस्टेशन 5 को तब लेंगे जब इसका रेट थोड़ा कम हो जाएगा लेकिन अब बाद में करते-करते सोनी ने दुनियाभर में इसके प्राइस 10% तक बढ़ा दिए है ।अब जो भी PS5 लेगा उसको 10% प्राइस ज्यादा मिलेगा लेकिन इसके अंदर इन्होंने यूएसए को शामिल नहीं किया ।उन्होंने सारी दुनिया में यह कहकर प्राइस बढ़ा दिया कि इनफ्लेशन ( inflation ) चल रहा है और क्रिप्टोकरंसी फ्लक्चुएशन ( cryptocurrency fluctuation ) हो रही है जिसकी वजह से हमें प्राइस बढ़ाने पड़ रहे हैं लेकिन यह प्राइस यूएसए के अंदर नहीं बढ़ाया गया । यूएसए के अंदर प्राइस इसीलिए नहीं बढ़ाया गया क्योंकि वहां पर बहुत ज्यादा मंदी ( recession ) चल रही है और उनके पास में पहले से ही काफी ज्यादा इकोनॉमिक चैलेंजेस है तो यहां नहीं बढ़ा रहे हैं। दोस्तों इनको क्या लगता है मंदी सिर्फ यूएसए के अंदर चल रही है इस समय मंदी का सामना पूरी दुनिया को करना पड़ रहा है । अगर आप PS5 को अभी लेना चाहते है तो अभी ले लीजिए क्योंकि आने वाले वक्त में इसके प्राइस 10% से भी ज्यादा हो सकता है । 

4. एप्पल अपने आइफोन 14 मैक्स को 7 सितंबर को लॉन्च कर सकती है 

images%20(4)

 दोस्तों एक बात कन्फर्म हो चुकी है कि एप्पल का एक बहुत बड़ा इवेंट अब 7 सितंबर को होने वाला है। शायद एप्पल उस दिन आईफोन 14 सीरीज , ऐप्पल वॉच या फिर AirPods Pro को भी लॉन्च कर सकते है ।लेकिन एक बात और सुनने में आ रही है कि यह आइफोन के मिनी वेरिएंट को भी लेकर आ सकते है । यह आइफोन को कट डाउन कर रहे हैं जिसमें यह आईफोन 14 मैक्स लेकर आयेंगे मिनी की जगह जहां पर क्या होगा कि कम पैसों में बड़ी स्क्रीन वाला आईफोन लिया जा सकता है जिसमें आईफोन 14 प्रो , आइफोन 14 प्रो मैक्स की तरह सारी चीजे सेम रहेंगी । 

5. एक्सपर्ट्स का कहना है : इंडियन स्मार्टफोन मैन्युफैक्चर्स कम कीमत पर उस क्वालिटी का स्मार्टफोन नहीं दे सकते जैसा चाइनीज मैन्युफैक्चरर्स दे रहे है 

IMG 20220824 060535

दोस्तों आपको ऐसा सुनने में तो आ ही रहा होगा कि चाइनीज मैनुफैक्चर अब इंडिया के अंदर 12,000 से नीचे के स्मार्टफोन को नहीं बेच पायेंगे ।शायद इंडियन गवर्नमेंट उनको बहुत जल्द बैन करने वाली है कि 12,000 से नीचे के स्मार्टफोन अब इंडिया के अंदर नहीं बेच सकेंगे क्योंकि अब इस कीमत पर सिर्फ इंडियन स्मार्टफोन मैन्युफैक्चर्स ही बेच सकते है ताकि इंडियन स्मार्टफोन को भी प्रमोट किया जा सके।लेकिन यहीं पर एक्सपर्ट्स का मानना है की अगर आप चाइनीज मैनुफैक्चर्स को 12,000 से नीचे के फ़ोन नहीं बेचने देते हो तो यह गैप बहुत ज्यादा बढ़ जाएगा क्योंकि बहुत सारे लोग बजट सेगमेंट में खरीदारी करते हैं और उस गैप को इंडियन मैन्युफैक्चरर्स पूरा नहीं कर पाएंगे ।यह बहुत बड़ा गैप रहने वाला है क्योंकि इंडियन मैन्युफैक्चरर्स कम कीमत पर उस तरह की क्वालिटी नहीं दे पाएगी जिस तरह की क्वालिटी चाइनीज मैन्युफैक्चरर्स दे रहे है और यह बजट में काफी अच्छा स्मार्टफान दे देते हैं । 

6. आगरा के शाही परिवार ने 150 सालों के बाद कुतुब मीनार पर अपना हक जताया 

images%20(6) 1661659796880

दोस्तों आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि आगरा के एक रॉयल फैमिली ने कुतुब मीनार के ऊपर अपना मालिकाना हक जताया हैं और अब यह फैमिली कोर्ट में भी जा चुकी है। दरअसल कुंवर महेंद्र ध्वज प्रसाद सिंह के एक हस्तक्षेप याचिका ( intervention plea ) के अनुसार , वह बेसवान फैमिली के मेंबर्स है और हम सक्सेसफुल राजा नंद राम के वंशज हैं और 1695 में वह इस दुनिया को छोड़ कर चले गए थे और उसके बाद औरंगजेब ने उनके राज्य पर कब्जा कर लिया था तो इस वजह से ये आज हमारे पास नहीं है। इस रॉयल फैमिली ने यह भी कहा कि हमारे पास आगरा से लेकर मेरठ तक की जमीन भी हुआ करती थी जिसके ऊपर भी हमारा अधिकार है और बहुत जल्द इस बारे में भी बात करेंगे।इसका फ़ैसला 13 सितंबर को कोर्ट में होगा कि क्या यह परिवार सच बोल रहा है या फिर झूठ ?अभी कई लोगों का यह भी कहना है कि अगर यह कुतुब मीनार सच में तुम्हारा था तो तुम 150 सालों से सोए हुए थे इतने सालों में कुछ कहा क्यों नहीं ।

7. नासा के पर्सेवरेंस रोवर ने मार्स पर पानी के सबूत को ढूंढा 

IMG 20220828 094122

नासा के पर्सेवरेंस रोवर ने रेड प्लेनेट ( Red Planet ) के जेजेरो क्रेटर ( Jezero crater ) में मार्स प्लेनेट के चट्टानों की खोज की है जिनमें शायद लाइफ से रिलेटेड निशान मिल सकते हैं।साइंटिस्ट का कहना है कि मार्स प्लेनेट पर पहले पानी हुआ करता था और पानी ने इन चट्टानों को बदल दिया , जिससे उन्हें भरोसा हो गया कि रेड प्लेनेट एक पानी से भरा हुआ प्लेनेट था। अब नासा इसी बात की खोज कर रही है कि अगर मार्स पर पानी के सबूत मिल जाते है तो इससे यह साबित हो जायेगा कि मार्स पर कोई भी लाइफ रह सकती है ।

8. एप्पल के एक एक्स एम्प्लॉय को एयरपोर्ट से भागते हुए गिरफ्तार किया गया , उस पर एप्पल के  सर्किट बोर्ड स्कीमैटिक्स और हार्डवेयर चुराने का आरोप लगाया गया है

2021 11 18 image 19 j 1100

दोस्तों एप्पल के एक एक्स एम्प्लॉय को सर्किट बोर्ड स्कीमैटिक्स ( circuit board schematics )और हार्डवेयर चोरी करने के आरोप में एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया गया है । आपको एप्पल के प्रोजेक्ट टाइटन के बारे में तो पता ही होगा यह एप्पल के एक ऑटोनोमस व्हीकल का प्रोटोटाइप है जिसके ऊपर वो कई सालों से काम कर रहे हैं और यही पर 2018 से Xiaolang Zhang नाम का यह एम्प्लॉय  एप्पल के साथ काम कर रहा था लेकिन अब इसे कम्पनी से निकाल दिया गया है । दरअसल यह एप्पल के 25 पेजेस का एक दस्तावेज लेकर भाग रहा था जिसमें एप्पल के सेल्फ ड्राइविंग व्हीकल  ( Self-Driving Vehicle ) के एक सर्किट बोर्ड के इंजीनियरिंग की डिटेल्स थी । वह इस प्रोटोटाइप की डिटेल्स अपनी पत्नी के लैपटॉप के अंदर डालकर ले जा रहा था , लेकिन कम्पनी को इस बात की भनक पहले ही लग चुकी थी कि यह भागकर चीन जायेगा। इसका प्लान था कि चीन जाकर यह इस प्रोटोटाइप को दिखाकर यह कहेगा कि वह उसका पेटेंट है और इसको मैंने बनाया है और उसके बाद यह दूसरी कंपनी में जॉब करता , लेकिन ऐसा नहीं हुआ क्योंकि एप्पल को पहले से ही मालूम चल गया था कि इसने कुछ चोरी की है । यह सैन जोस इंटरनेशनल एयरपोर्ट  ( San Jose International Airport ) से अपनी अंतिम उड़ान भरने वाला था लेकिन पुलिस ने इसको वही पर गिरफ्तार कर लिया और14 नवंबर को  इसे सजा दी जाएगी जिसमें इसको दस साल तक की जेल हो सकती है और 250,000 डॉलर तक का जुर्माना लग सकता है ।2 ) अपनी बेकार सर्विस और ओवर चार्ज की वजह से कोर्ट ने ओला पर 95,000 का फाइन लगाया

images%20(1) 1661425209856

दोस्तों ओला की सर्विस तो आप भी यूज़ करते होंगे लेकिन कई बार आपको भी लगता होगा कि यह ओवर चार्ज कर रहे हैं फिर भी आप चुप रह जाते होंगे। दरअसल 19 अक्टूबर 2021 को हैदराबाद के एक व्यक्ति  सैमुअल अपनी वाइफ के साथ ओला कैब से जा रहा था जब उन्होंने ड्राइवर को AC ऑन करने के लिए कहा तो ड्राइवर ने AC ऑन करने से इंकार कर दिया । सैमुअल की शिकायत के मुताबिक 5 किलोमीटर जाने के बाद ड्राइवर ने उन्हें वही रोककर कैब से बाहर निकलने के लिए कहा और उन्हें 861 रूपये देने के लिए कहा गया क्योंकि सैमुअल ने ओला मनी कैश क्रेडिट सर्विस  ( Ola Money Cash Credit Service ) का यूज़ किया था इसीलिए उसे ड्राइवर को पेमेंट नहीं करना पड़ा । और वैसे भी 5 किलोमीटर के सफर में मुश्किल से 150-200 रुपये का चार्ज होता है ।जाबेज़ सैमुअल ने कोर्ट में पिटीशन फाइल कर दी और अभी कोर्ट ने फैसला भी सुना दिया है जिसमे कोर्ट ने  ओला की पूअर सर्विस और ओवर चार्ज की वजह से ओला पर 95,000 रूपये का फाइन लगाया है ।

Leave a Comment