मद्रास हाई कोर्ट ने FIFA World Cup 2022 के इलीगल ब्रॉडकास्टिंग पर लगाई रोक , यूनिवर्सिटी ऑफ़ साउथेम्प्टन ने बनाया एक Human Powered Aircraft

1. मद्रास हाई कोर्ट ने FIFA World Cup 2022 के इलीगल ब्रॉडकास्टिंग पर लगाई रोक

दोस्तों इस वक्त कतर में FIFA World Cup 2022 चल रहा है जहां मद्रास हाई कोर्ट ने 12,000 से अधिक वेबसाइट्स पर इसके इलीगल ब्रॉडकास्टिंग ( Illegally Broadcasting ) पर रोक लगा दी है । दरअसल अभी Viacom 18 के पास ही यह अधिकार है कि वो फीफा का लाइव टेलीकास्ट दिखा सकते है। अगर ऐप्स की बात करें तो जिओ सिनेमा के पास ही यह परमिशन है कि वो इसे चला सकते है । यहां पर बहुत से देश फीफा वर्ल्ड कप देख रहें है हालांकि अगर अपने आस-पास के देश की बात करें तोभूटान, बांग्लादेश, इंडिया, माल्दीव, नेपाल, पाकिस्तान, श्रीलंका इन सभी को फिलहाल के लिए इसके टेलिकास्ट प्रोवाइड किए जा रहे थे । लेकिन अब मद्रास हाई कोर्ट नेकह दिया है कि किसी को भी इसके लाइव टेलिकास्ट नहीं दिए जायेंगे क्योंकि जिसके पास में अधिकार है सिर्फ वही टेलीकास्ट करेगा । अगर आप FIFA World Cup 2022 देखना चाहते है तो इसे आप जियो सिनेमा के ऊपर ही देख सकते हो और कोई भी इसकी कॉपी डाउनलोड और अपलोड नहीं कर पाएगा क्योंकि ये सारा कॉपीराइटेड मटेरियल है तो इस केस में स्ट्राइक भी आ सकता है।

2. डैनियल अरशम ने Xiaomi 12T Pro को किया डिजाइन 

दोस्तों शाओमी ने अपने Xiaomi 12T Pro के लिए एक न्यूयॉर्क बेस्ड आर्टसिस्ट को हायर किया है जिसका नाम डैनियल अरशम ( Daniel Arsham ) हैं। डैनियल ने Xiaomi 12T Pro के लिए एक फिक्शनलआर्कियोलॉजी वाला डिजाइन तैयार किया है । यह एक लिमिटेड एडिशन है यानी की सिर्फ 2000 यूनिट के साथ में इस तरीके का डिजाइन दिया जाएगा। यह डिज़ाइन देखने में आपको गंदा लग सकता है क्योंकि आर्केलॉजिस्ट जमीन के अंदर से ही वैल्युएबल चीज़ें खोजते है तो यह भी उसी टाइप का डिज़ाइन होगा ।

3. चीन के फॉक्सकॉन फैक्ट्री की एक वीडियो हुई वायरल , फैक्ट्री के अंदर हो रहे है दंगे-फसाद

दोस्तों चाइना के फॉक्सकॉन फैक्ट्री ( Foxconn factory ) के अंदर से एक वीडियो काफी ज्यादा वायरल हो रही है जहां पर कई सारे वर्कर्स दंगे-फसाद कर रहे है क्योंकि अभी तक उन्हें बोनस नहीं दिया गया । बोनस तो दूर की बात है इन वर्कर्स को सैलरी तक नहीं दी गईं है जबकि पहले इनको यह कहा गया था कि तुम्हे यहां रुककर काम करना है जिससे तुम्हें अच्छी सैलरी मिलेगी और बोनस भी मिलेगा । लेकिन ना इन्हें सैलेरी दी गई और ना बोनस दिया गया और वहां कीवर्किंग कंडिशन कुछ इस तरीके की है, जिसकी वजह से बहुत सारे वर्कर्स तंग हो गए है और जॉब छोड़कर जा रहे है । यही पर चीन ने अपने पूर्व सैन्य कर्मियों से एप्पल की प्रोडक्शन बढ़ाने के लिए हेल्प मांगी है लेकिन जिस तरह से फॉक्सकॉन फैक्ट्री में वर्कर्स जॉब छोड़कर जा रहे है यहां पर किसी का भी काम करना मुश्किल हैं।

4. यूनिवर्सिटी ऑफ़ साउथेम्प्टन ने बनाया एक Human Powered Aircraft

दोस्तों कुछ साल पहले यूनिवर्सिटी ऑफ़ साउथेम्प्टन ( University of Southampton ) के स्टूडेंट्स ने Human Powered Aircraft तैयार किया था जोकि साइकिल के पैडल से थोड़ा ऊंचा उड़ गया था । यह एकइम्पॉसिबल इंजीनियरिंग  का कमाल था जिसकी वजह से यह सब कुछ हो पाया है लेकिन बहुत जल्द इसका सेकेंड वर्जन भी लॉन्च होने वाला है जोकि पहले वाले से हल्का होगा । पहले वाला 51 Kg का था और सेकेंड वर्जन 38 kg का होने वाला है और यह उससे अच्छा परफॉर्म करेगा । यानी की यह कम ह्यूमन एनर्जी पर ज्यादा देर तक चलेगा और आपको बहुत जल्द इसका सेकेंड वर्जन भी देखने को मिल सकता हैं ।



5. रशिया ने अपने Hypersonic Satan-2 Nuclear Missile का किया सफल परीक्षण

दोस्तों आपको मालूम होगा कि रशिया-यूक्रेन की वॉर चल रहा है जिसमें कई देश यूक्रेन को सपोर्ट कर रहे है । लेकिन यहीं पर रशिया ने अपना हाइपरसोनिक शैतान-2 परमाणु मिसाइल ( Hypersonic Satan-2 Nuclear Missile )अनवील किया है । रशिया ने इसके सफल परीक्षण की घोषणा भी कर दी है ।इस मिसाइल के अंदर 15 warheads हैं यानी कि जब इसे लॉन्च किया जाएगा तो यह 15 अलग-अलग जगहों में जाकर ब्लास्ट हो सकता हैं।यहां तक कि यह अमेरिका और यूरोप में भी पहुंच सकता है । इस मिसाइल को सबसे ज्यादा डेंजरस इसीलिए बताया जा रहा है क्योंकि यह बहुत ज्यादा low attitude पर भी जा सकता है। जिस भी इलाके में अटैक किया जाएगा यह उसी एरिया में ब्लास्ट होगा और इस वजह से शायद कई देशों के एंटी मिसाइल सिस्टम और एंटी न्यूक्लियर सिस्टम भी फेल हो जाए ।

6. आने वाले टाइम में कोविड से भी खतरनाक वायरस देखने को मिल सकता हैं

दोस्तों कॉविड 19 ने जिस तरह का कहर मचाया है वो आपको हमेशा याद रहेगा। यही पर एनवायरमेंट लिस्ट का भी यही कहना है कि जिस तरह से ग्लेशियर पिघल रहे , आने वाले वक्त में कॉविड से भी खतरनाक वायरस का मुकाबला करना पड़ सकता है । कई सारे वायरस और बैक्टीरिया ग्लेशियर में मौजूद है जोकि पिघलते हुए चले जाएंगे और धीरे-धीरे इंसानों को उनसे मिलने का मौका मिल सकता है क्योंकि लाखों साल पहले कौन सा जानवर , किस बैक्टीरिया और किस वायरस से मरा है वो हमको भी नहीं पता है ।  लेकिन आने वाले वक्त में जब इंसानों की मुलाकात इन वायरस से होगी तो शायद कॉविड भी फेल हो जाए।

7. Pheasant Island : एक ऐसा आईलैंड जो 2 देशों में बंटा हुआ हैं

दोस्तों इस दुनिया में एक ऐसा आईलैंड भी है जो हर 6 महीने में अपने देश को चेंज करता रहता है । दरअसल फ्रांस और स्पेन के बीच बिदासोआ नदी ( Bidasoa River ) में Pheasant Island हैं। यह आईलैंड 6महीने स्पेन की तरफ़ होता है और 6 महीने फ्रांस की तरफ होता है। 350 साल पहले यहां पर एक एग्रीमेंट हुआ था जिसके तहत 6 महीने यह आईलैंड स्पेन के पास रहता है और 6 महीने फ्रांस के पास रहता हैं ।

Leave a Comment