दुनिया की पहली एयर टैक्सी कमर्शियल सर्विस

1. दुनिया की पहली एयर टैक्सी कमर्शियल सर्विस

images%20(85)%20(8)

दोस्तों यूएसए बेस्ड एक इलेक्ट्रिक एविएशन कंपनी है जिसका नाम है जॉबी एविएशन ( joby aviation ) जोकि अपनी एयर टैक्सी कमर्शियल सर्विस शुरू करना चाहते हैं और इनको फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन( Federal Aviation Administration) ने शुरू करने के लिए सर्टिफिकेशन भी दे दिया है और यह पहली ऐसी इलेक्ट्रिक कंपनी बन चुकी है जो कि अपने फ्लाइंग व्हीकल के साथ में टैक्सी सर्विस शुरू करेगी। लेकिन अभी भी इनके रास्ते में दो रूकावटे है इनको दो सर्टिफिकेशन की और जरूरत पड़ेगी ताकि किसी भी पैसेंजर को यह सुरक्षित इधर से उधर ले जा सके ।इस पूरे प्रोसेस के अंदर थोड़ा समय लग सकता है जिसकी वजह से 2024 में जाकर यह अपनी एयर टैक्सी सर्विस शुरू करेंगे।

2. चीन के स्टूडेंड्स ने शंघाई यूनिवर्सिटी को दिया अच्छा जवाब

इस वक्त  चीन के अंदर  लॉकडाउन लगा हुआ है जिसकी वजह से वर्क फ्रॉम होम और ऑनलाइन स्टडी चल रही है ।यहीं पर एग्जाम भी ऑनलाइन लिए जा रहे हैं लेकिन हद तो तब हो गई जब शंघाई यूनिवर्सिटी ने अपने स्टूडेंट्स को यह कहा  कि आपका ऑनलाइन मॉक टेस्ट होगा वो भी स्विमिंग टेस्ट जोकि  प्रैक्टिकल स्विमिंग करके दिखाना है ।ऑनलाइन एग्जाम के अंदर जहां पर 50 मीटर की स्विमिंग होगी जिसके बाद में उनको बैचलर्स डिग्री मिलेगी।

IMG 20220528 132710

दरअसल चीन की बहुत सी यूनिवर्सिटी यह कहती है कि हमारे सभी स्टूडेंट्स जो कि ग्रेजुएट होने वाले उनको ग्रेजुएशन से पहले स्विमिंग सीखनी होगी और दिखाना होगा कि उन्होंने स्विमिंग सीख ली हैं क्योंकि यह एक सर्वाइवल स्किल हैं इसीलिए यह सभी स्टूडेंट्स को आना चाहिए। लेकिन स्टूडेंट्स ने भी अच्छा जवाब दिया कि स्विमिंग कहां करके दिखाए बारटब में या इंटरनेट सर्फिंग करके दिखाएं या फिर किसी और कंट्री में जाकर स्विमिंग करके दिखाएं । इस तरह से सोशल मीडिया के ऊपर काफी बवाल होने के बाद में उन्होंने इस एग्जाम को कैंसिल करके इस एग्जाम को थ्योरी में कर दिया कि आप  बस थ्योरी में समझा देना कि कैसे तैरते है।

3. ऑनलाइन ई-कॉमर्स वेबसाइट अपने प्रोडक्ट की सेल बढ़ाने के लिए करवा रहे है फेक रिव्यूज

images%20(1)

दोस्तों एमेजॉन या फ्लिपकार्ट या फिर इसी तरीके की कई सारी ऑनलाइन ई-कॉमर्स वेबसाइट के ऊपर आपको  फेक रिव्यू बहुत देखने को मिलते होंगे।आजकल कस्टमर खुद से रिव्यू नहीं देते बल्कि फेक रिव्यू ज्यादा आते है। ऑनलाइन शापिंग करने वाले कस्टमर को कह देते हैं कि आप फेक रिव्यू डाल देना ।वह उस प्रोडक्ट के साथ में एक पर्ची छोड़ देते है जिसमें लिखा होता है कि इससे आपको ₹50 मिल जाएंगे या केसबैक मिल जाएगा या फिर कोई प्रोडक्ट गिफ्ट कर देंगे। आपको बस उनके प्रोडक्ट को फाइव स्टार देना है ।इस तरह से इनके प्रोडक्ट की सेल काफी ज्यादा हो जाएगी ।लेकिन सेंटर गवर्नमेंट को इस बात का पता है कि फेक रिव्यू यहां पर बहुत चलते है जिसकी वजह से यहां एक मीटिंग रखी गई है फ्लिपकार्ट और अमेजॉन और इसी के साथ साथ कुछ और टॉप की ऑनलाइन वेबसाइट के साथ में क्योंकि यह कंज्यूमर के राइट टू इनफार्मेशन को वॉयलेट करती है ।इनको यह पता है कि जो प्रोडक्ट बनाता है वह तो अपने प्रोड्क्ट के बारे में अच्छी अच्छी बातें लिखेगा लेकिन जो उस प्रोडक्ट को इस्तेमाल कर रहा है वह तो सच ही लिखेगा। लेकिन आजकल कस्टमर को भी कैशबैक ओर गिफ्ट का लालच देकर बहकाया जाता है ।

4. टेस्ला के रिसर्चर ने तैयार किया सौ सालों तक चलने वाला बैटरी

images%20(2)

टेस्ला के रिसर्चर ने कनाडा के डलहौजी यूनिवर्सिटी (Dalhousie University )के साथ में मिलकर एक ऐसी बैटरी की टेक्नोलॉजी तैयार कर दी है जो सौ सालों तक चल सकता है।अगर एक बार आप इसे चार्ज करके छोड़ देंगे और सौ सालों के बाद दुबारा से इस्तेमाल करोगे तो भी उसमे बैटरी फुल रहेगी। यह निकल बेस बैटरी टेक्नोलॉजी है और इसे डलहौजी यूनिवर्सिटी के रिसर्चर जिनकी स्पेशलिटी ही बैटरी के ऊपर काम करना है उसी के साथ में मिलकर इन्होंने टेक्नोलॉजी तैयार करी है।

5. यूएसए के नॉर्थ वेस्ट यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने बनाया एक स्मार्ट पेसमेकर

images%20(3)

दोस्तों यूएसए के नॉर्थ वेस्ट यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स  ने खास तरीके का स्मार्ट पेसमेकर बनाया है। जब हार्ट इन रेगुलर हार्टबीट्स करता है मतलब हार्ट सही नहीं रहता तो इसकी वजह से यह पेसमेकर उन पेशेंट के हार्ट पर लगाया जाता है ।स्मार्ट पेसमेकर क्या होता है कि जिस भी पेशेंट के बॉडी के अंदर यह लगाया जाता हैं तो यह डिसोल्व हो जाता है  और उसके बाद में वह पेशेंट ठीक हो जाता है।इसको निकालने के लिए भी एक और ऑपरेशन करना पड़ता ।और यह ऑपरेशन ना करना पड़े इसीलिए रिसर्चर ने इसे वॉटर सॉल्युबल मेटेरियल से बनाया है ताकि एक बार काम करने के बाद में ये ब्लड के अंदर घुल जाएगा और उसके बाद में यूरिन के जरिए यह बाहर निकल जाएगा। जैसे बॉडी में टैटू होता है टैटू को निकालने के लिए जो लेजर सर्जरी की जाती है जिसके बाद में वह ब्लड में घुल जाता है उसके बाद में यूरिन के रास्ते निकल जाता है यह भी वैसा ही है।

रहा है।

6. एस्ट्रोफ्लोज कंपनी करेगी एस्ट्रॉयड की माइनिंग

images%20(5)

दोस्तों यहां एक कैलिफोर्निया बेस्ड एस्ट्रोएड माइनिंग स्टार्टअप कंपनी( Asteroid-mining startup )है जिसका नाम है एस्ट्रोफ्लोज (AstroForge)। इनका काम है कि एस्ट्रॉयड की माइनिंग करेंगे हालांकि यह काम 2030 तक करेंगे लेकिन उससे पहले स्पेसएक्स के साथ में पार्टनरशिप करके एक राइडरशेयर मिशन (Rideshare Mission) भीं करना चाहते हैं जो कि एक से दो साल के बाद में हो होगा । दरअसल यह किसी एस्ट्रॉयड के ऊपर कोई रोवर लैंड कर के वहां पर माइनिंग नहीं करने वाले बल्कि यह एक चट्टान जितना जितना कोई एस्ट्रॉयड ले लेंगे जिसका डायमीटर सिर्फ एक से दो मीटर जितना ही होगा वहां पर पहले एक सेटेलाइट भेजेंगे कोई रोवर भी नहीं भेजने वाले ।वो सैटेलाइट उसके चक्कर लगाएगा और उस एस्ट्रॉयड में जो भी मेटेरियल मिलेगा उसको वैक्यूम के सहारे खींचेंगे लेकिन यहां पर उस एस्ट्रॉयड को भी टारगेट करेंगे जहां पर ग्रेविटेशनल फोर्स नहीं है ही जिसकी वजह से इनका काम काफी आसान हो जाएगा । इस तरीके से यह राइडरशेयर डेमो मिशन के अंदर काम करेंगे हालांकि 2030 में ही यह एक बड़े स्केल पर काम कर सकते है।

7. यूटा ने बनाया एक ऐसा आई डिटेक्टर जिससे किसी भी इंसान का सच और झूठ सिर्फ पंद्रह मिनट में पकड़ा जा सकता है।

images%20(6)

दोस्तों एक यूटा बेस्ड (The Utah Fly’s Eye detector) कंपनी है जिन्होंने एक खास तरीके का लाईट डिटेक्टर तैयार किया हैं ।दरअसल कहा जाता है कि आंखें कभी झूठ नहीं बोलती तो इन्होंने आई डिटेक्ट नाम का एक सिस्टम तैयार किया है जो कि यह बता सकता है कि कौन झूठ बोल रहा है ?और कौन सच बोल रहा हैं ?अभी तक 50 देशों से 600 कस्टमर को ऑर्डर आ चुके है। यह आंखो की पुपिल को देखता हैं और फिर उसे डिटेक्ट कर लेता हैं कि कौन सच्चा है ?कौन झूठा है ? इसमें 15 मिनट का टेस्ट होता हैं जिसमें किसी की आंखें बड़ी हो जाती है तो किसी की आंखें छोटी हो जाती है और कितनी बार वह ब्लिंक कर रहा हैं इससे फैसला लिया जाता है। पहले यह टेस्ट पॉलीग्राफी में होता था जिसके अंदर हॉट रेट, ब्लड प्रेशर और इसी के साथ-साथ स्किन कंडक्टिविटी को देखकर फैसला लिया जाता है। आई डिटेक्टर में सिर्फ आंखों से पता लगा लिया जाता है और यह 88 प्रतिशत सही भी है।

8. एक स्टडी से पता चला है कि इंसान का लीवर हमेशा जवान रहता है

images%20(6)

दोस्तों इंसानी लीवर के ऊपर एक स्टडी की गई थी जिसमे यह पता चला है कि इंसान का लीवर हमेशा जवान ही रहता है वह हमेशा 3 साल का ही रहता है चाहे वह इंसान 20 साल का हो या फिर 100 साल का हो जाए उसका लीवर हमेशा जवान ही रहेगा। यह मोस्ट इंपॉर्टेंट ऑर्गन होता है हमारी बॉडी का जिसका एक काम होता है टॉक्सिन को हमारी बॉडी से बाहर निकलना जिसके अंदर इसको नुकसान भी होता है लेकिन यह अपने आप रिकवर भी हो जाता है क्योंकि इसके जो सेल होते हैं वह रीजेनरेट होते रहते हैं इसकी वजह से यह कभी भी बूढ़ा नहीं होता है।

Leave a Comment