एमेजॉन ने अमेरिका के अंदर शुरू किया वर्चुअली शूज ट्राई

images%20(4)

1. एमेजॉन ने अमेरिका के अंदर शुरू किया वर्चुअली शूज ट्राई

अमेरिका के अंदर एमेजॉन ने एक चीज़ शुरू करी है जिसमें आप जूतों को वर्चुअली ट्राई कर सकते हो।इसमें आप जूते को पांव में पहन कर देख सकते हो कि वह आपके पांव में कैसा लगेगा। फिलहाल के लिए यह सिर्फ अमेरिका के अंदर शुरू किया गया है धीरे-धीरे बाकी की देशों में भी शुरू किया जाएगा।

2. इंडोनेशिया टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए टेक कंपनी के एम्प्लॉयज को दे रही है 5 साल का वर्किंग विजा

images%20(3)

दोस्तों इंडोनेशिया ने अपने टूरिज्म को बढ़ाने के लिए 5 साल का वर्किंग विजा भी निकाल दिया है जिसमें कोई भी एंप्लोई जो बड़ी-बड़ी टेक कंपनी में है जैसे फ्लिप्कार्ट या फिर दूसरी बड़ी टेक कंपनी में है तो वह इंडोनेशिया में आ सकता है। वह इंडोनेशिया के बाली के अंदर रुक सकता है।बाली को खासतौर पर इसीलिए मार्क किया गया है ताकि बाली का टूरिज्म बढ़ाया जाए । वहां पर वे 5 साल के लिए रुक सकता है और उसे अपनी इनकम से तब तक कोई टैक्स नहीं भरना पड़ेगा जब तक उसकी इनकम दूसरी कंट्री से आ रही है । लेकिन हां अगर वह इंडोनेशिया के अंदर कमाने लग जाता है तो उसे टैक्स देना होगा।

3.चाइना की ननकाई यूनिवर्सिटी ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का यूज करके एक पिग का क्लोन तैयार किया और ऐसा दुनिया में पहली बार हुआ है।

images%20(7)

दोस्तों चाइना की ननकाई यूनिवर्सिटी (Nankai University) ने दुनिया में पहली बार आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का यूज करके एक पिग का क्लोन तैयार किया जोकि फुली ऑटोमेटिक मेथड है ।इसके अंदर इंसान की कोई भी इंवॉल्वमेंट नहीं थी ना कोई डॉक्टर था और ना ही कोई सर्जन था।यहां पर इन्होंने सोमेटिक सेल न्यूक्लीयर ट्रांसफर टेक्निक(somatic cell nuclear transfer ) के द्वारा सेरोगेसी माता को लिया और उसके द्वारा बच्चा पैदा किया जाता है ।यही पर होता क्या है कि न्यूक्लियस को निकाल लिया जाता है पशु अंडा कोशिका (animal egg cell )से और उसके बाद दूसरे पशु को ट्रांसफर कर दिया जाता है लेकिन इसके अंदर सेल डैमेज होने की संभावना ज्यादा रहती हैं या फिर वह दूषित(contaminated) हो जाता है इसकी संभावना ज्यादा रहती है लेकिन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के इस टेक्निक से कुछ भी नहीं होता है । यह एक एरर फ्री मेथड(error free method) है यह जिसकी वजह से वह काफी ज्यादा वाह वाही लूट रहे है।

4. यूरोपीयन यूनियन का ऐलान -2024 से पहले पहले सभी स्मार्टफोंस में यूएसबी टाइप सी पोर्ट होना

images%20(2)

दोस्तों अब यूरोपीयन यूनियन इस एग्रीमेंट पर आ चुका है कि सभी स्मार्टफोंस के अंदर यूएसबी टाइप सी पोर्ट मैंडेटरी होना चाहिए वरना वह यूरोप के किसी भी देश के अंदर अपना स्मार्टफोन नहीं बेच सकते चाहे वह कोई कैमरा हो या फिर टेबलेट हो । सभी स्मार्टफोन और पोर्टेबल डिवाइस के अंदर यूएसबी टाइप सी पोर्ट होना चाहिए क्योंकि इससे ई-वेस्ट बढ़ता है। इस वजह से उन्होंने यह फैसला किया कि 2024 से पहले पहले अपने जितने भी स्मार्टफोन है उसे बेच लो लेकिन उसके बाद में सभी स्मार्टफोंस में यूएसबी टाइप सी पोर्ट होना ही चाहिए ।

5. इंडिया ने बनाया दुनिया का पहला लिक्विड मिरर टेलीस्कोप

images%20(3)

दुनिया के अंदर पहली बार लिक्विड मिरर टेलीस्कोप( luquid mirror telescope) तैयार किया गया है । यह इंडिया के नैनीताल उत्तराखंड में स्थित आर्यभट्ट रिसर्च इन्स्टिट्यूट ऑफ ऑब्झर्व्हेशनल सायन्सेस (Aryabhatta Research Institute of Observational Sciences)ने तैयार किया है। इसके अंदर 50 लीटर मर्करी डाली गई है जिसका वजन लगभग 700 किलो है। यह हर रात 10GB का डाटा कलेक्ट करेगा और आसमान की अच्छे से फोटो भी लेगा इस तरह से यह दूसरे टेलिस्कोप के मुकाबले में काफी ज्यादा अलग है।

6. आने वाले समय में माहामारी कॉविड-19 से भी ज्यादा खतरनाक हो सकती है।

images%20(5)

पिछले 3 सालों से हम कॉविड-19 से जूझ रहे हैं हालांकि अब यह सामान्य हो गया है और इसके साथ हमें जीना भी आ गया है । इस पर बिल गेट्स ने कहा कि शुक्र मनाओ यह उतना ज्यादा फेटल नहीं था हालांकि बिल गेट्स ने दवाई बनाकर बहुत ज्यादा कमाई की होगी लेकिन वह बहुत ज्यादा डोनेशन भी करते है तो उनको ब्लेम नहीं किया जा सकता । कॉविड-19 इतना ज्यादा फेटल नहीं था लेकिन यह एक सीख थी आने वाला समय में इससे भी बुरा हो सकता है क्योंकि आने वाली महामारी कॉविड-19 से भी ज्यादा खतरनाक होगा। ऑफिशियली बताया गया है इस महामारी की फेटालिटी रेट (Fatality Rate )सिर्फ 3.4% था जो कि जिसने सारी दुनिया से 15 मिलियन लोगों की जान ले ली । डबल्यूएचओ के अनुसार बहुत से देशों ने छुपाया है कि कितने लोगों कि मौत हुई है।

7. एंटी एजिंग टेक्निक को खोजने के लिए जेफ बेजोस और कई रॉयल फैमिली खर्च कर रहे है करोड़ों रुपए

images%20(6)

इस दुनिया में सिर्फ जेफ बेजोस अकेले इंसान नहीं है जो एंटी एजिंग की टेक्निक को खोजने के लिए बिलियन्स ऑफ यूएस डॉलर खर्च कर रहे हैं । सऊदी अरेबिया के भी कई अमीर शहजादे हैं जो हर साल बिलियन्स ऑफ यूएस डॉलर देंगे इस रिसर्च के अंदर जिसके लिए उन्होनें अलग-अलग रिसर्च ग्रुप भी बनाए है।बहुत सी रॉयल फैमिली के पास इतना पैसा मौजूद है कि पैसा गिनने के लिए भी लोग कम पड़ जाते है वह चाहते हैं कि वह कभी बूढ़े ना हो इसीलिए वह इस टेक्निक को खोजने के लिए बिलियनस खर्च करने के लिए भी तैयार है।

8. अब आप क्रेडिट कार्ड के जरिए भी यूपीआइ कर सकते हो

UPI credit card1

दोस्तों हम में से बहुत से लोग यूपीआइ का यूज करते हैं और यूपीआई का यूज करके हमारी पेमेंट आसानी से हो जाती है । बहुत से लोगों के पास में क्रेडिट कार्ड और रुपए कार्ड भी है ।अब आप क्रेडिट कार्ड है के जरिए भी यूपीआइ कर सकते है। लेकिन मास्टरकार्ड और वीजा कार्ड वाले को थोड़ा और इंतजार करना पड़ेगा ।

Leave a Comment