एमआईटी के रिसर्चर ने बनाया मिनी चिप जो 48 घंटों तक उस ऑर्गन की निगरानी रख सकता है

1. एमआईटी के रिसर्चर ने बनाया मिनी चिप जो 48 घंटों तक उस ऑर्गन की निगरानी रख सकता है 

दोस्तों MIT के रिसर्चर्स ने एक खास तरीके का स्टैम्प साइज का एक स्टीकर तैयार किया है जिससे कि लगातार 48 घंटों तक ऑर्गन की इमेजिंग मिल सकती है और यह बहुत ही लाइट वेट है ।यह एक व्हेरेबल डिवाइस है जिसको उस ऑर्गन में चिपकाया जा सकता है जिस ऑर्गन की निगरानी रखनी है और करीबन 48 घंटे तक काम करता है। यह चिप सिर्फ अल्ट्रासाउंड की इमेजिंग दे सकता है ।पहले क्या था जब आप अल्ट्रासाउंड करवाने जाते थे तो वहां 15-20 मिनट का प्रोसीजर रहता है जिसमे पूरा काम हो जाता है लेकिन इस चिप के जरिए लगातार 48 घंटों तक उस ऑर्गन पर निगरानी रखी जा सकती है ।

2. 1982 में, एक आदमी अपने बजाज चेतक लेकर दुनिया के सबसे ऊंचे मोटरेबल रोड पर गया था और आज यह लोगों के लिए एक मोटिवेशन है 

दोस्तों बहुत से लोगों का सपना होता है लेह लद्दाख जाने का लेकिन वो देरी कर देते हैं क्योंकि उनके पास अच्छी बाइक नहीं है और अच्छी बाइक के बिना वह लेह लद्दाख नहीं जा पायेंगे ऐसा उनका मानना होता है जिसकी वजह से हर बार डिले होता जाता है ।लेकिन 1982 के वक्त में क्या उस तरह के रोड हुआ करते थे जिस तरह के रोड आज है ? नहीं ना , लेकिन फिर भी एक व्यक्ति है जिसका नाम राज कृष्ण है उस समय शायद इनकी उम्र बीस-बाईस साल हुआ करती होगी । यह अपनी बजाज चेतक स्कूटर लेकर दुनिया की सबसे ऊंची मोटर योग्य सड़कों ( World’s Highest Motorable roads ) पर गए थे वो भी अपनी स्कूटर में।यह श्रीनगर से जोजी-ला पास गए थे करीबन सोलह घंटे का टाइम उस वक्त में इनको लगा था आज इनकी उम्र साठ साल हो रही है लेकिन आज भी इनको याद है कि मैंने अपना सपना उस वक्त में पूरा कर लिया था । अगर यह भी सोच के बैठते की नहीं अभी इंतज़ार करता हूँ और पहले बढ़िया सी बाइक ले लूं तो शायद यह नहीं कर पाते तो जितने भी लोग ऐसा सोचते है यह उनके लिए एक मोटिवेशन है ।

3. यूएसए के अंदर एक अजीब सा पोर्टल है जो मरने से पहले लोगों को डेथ सर्टिफिकेट का ऑप्शन दे रही है

दोस्तों आप सभी को अच्छे से मालूम होगा कि डेथ सर्टिफिकेट ( Death Certificate ) के लिए तब अप्लाई किया जाता है जब किसी इंसान की मौत हो जाती है जो अब इस दुनिया में नहीं है ।लेकिन यूएसए के अंदर कुछ अलग ही सिस्टम चल रहा हैं वहां के नॉर्थ कैरोलाइना के ऑनलाइन पोर्टल है, जहां पर डेथ सर्टिफिकेट के लिए अप्लाई किया जाता है, वहां पर दो ऑप्शन नजर आते हैं एक  Myself का एक और Someone Else का मतलब कोई मरने से पहले अपने लिए अप्लाई करके चला जायेगा कि हां मैं मरने वाला हूँ मेरा डेथ सर्टिफिकेट बना दो। सुनने में बहुत अजीब लग रहा है लेकिन हकीकत में यूएसए के अंदर ऐसा पोर्टल है ।

4. दुनिया का सबसे रेयर ब्लड ग्रुप को इंडिया के एक व्यक्ति में डिटेक्ट किया गया 

 दोस्तों इस दुनिया के अंदर नॉर्मली 4 टाइप के ब्लड ग्रुप होते है _A, B, O और AB ब्लड ग्रुप यह आपको आसानी से मिल जाता है इसके लिए आपको ज्यादा ढूंढना नहीं पड़ता लेकिन इस दुनिया में एक ऐसा ब्लड ग्रुप भी है जो बहुत ही रेयर है ” EMM negative ” ब्लड ग्रुप । दरअसल सारी दुनिया के अंदर ऐसे नौ इंसान डिटेक्ट किए गए हैं जिनका ब्लड ग्रुप emm Negative है और इंडिया के अंदर भी अभी ऐसा एक इंसान मिल चुका है जिसकी वजह से अब इस ब्लड ग्रुप के 9 इंसान हो गए है । यह एक ऐसा ब्लड ग्रुप है जो ना तो किसी से ब्लड ले सकते है और ना ही किसी को अपना ब्लड दे सकते हैं ।


5. सैमसंग अपने यूजर्स के लिए लाया है ” Repair Mode ” जो उनके पर्सनल डाटा को सिक्योर रखेगा 

दोस्तों आप अपने फोन में कितनी ही प्राइवेसी रख लो लेकिन जब आपका फोन रिपेयर होने के लिए जाता है तो आपकी प्राइवेसी वहां पर खराब हो जाती है । जो आपका फोन रिपेयर करता है वह व्यक्ति आपके फोन का सारा का सारा डाटा देख सकता है जैसे आपके फोन के इमेजेस भी देख सकता है और आपके मैसेज भी पढ़ सकता है । इस तरह से आपका पर्सनल डाटा उस व्यक्ति के पास चला जाता है । लेकिन सैमसंग अपने यूजर्स के लिए एक नया फीचर लेकर आया है जिसको रिपेयर मोड ( Repair Mode ) कहा जाता है ।जब भी आप अपना फोन रिपेयर करवाने के लिए देते हो आप उसको रिपेयर मोड में डाल सकते हो इससे कोई भी व्यक्ति आपका पर्सनल डाटा देख नहीं सकता।और सभी एप्लिकेशन उसमें इंस्टॉल्ड होगा लेकिन कोई भी व्यक्ति डाटा को एक्सेस नहीं कर पाएगा जो कि आपकी प्राइवेसी को प्रोटेक्ट रखेगा।कई यूजर्स के यह सवाल भी होते है कि अगर फोन बिल्कुल ही डैमेज हो जाता है फिर हम इस रिपेयर मोड को यूज कर सकते है ? नहीं उस समय आप ऐसा नही कर पाओगे, लेकिन बैटरी चेंज करवाना हो या फिर कैमरा काम नहीं कर रहा है या फिर दूसरे कुछ फॉल्ट आ जाते तो उसमें आप इसका यूज कर सकते हो।

6. इस दुनिया में पहली बार एक एचआईवी पेशेंट का हार्ट दूसरे एचआईवी पेशेंट में ट्रांसप्लांट किया गया और यह सक्सेसफुल भी रहा

दोस्तों इस दुनिया के अंदर कभी भी इस तरीके की ऑपरेशन नहीं हुआ था लेकिन पहली बार अमेरिका के न्यूयार्क के अंदर एचआईवी पॉजिटिव टू एचआईवी पॉजिटिव हार्ट ट्रांसप्लांट ऑपरेशन किया गया और यह चार घंटे का ऑपरेशन रहा था और यह सक्सेसफुल भी रहा है। दरअसल न्यूयॉर्क के अंदर एक 60 साल की महिला थी जिसको एडवांस हार्ट फेलियर हो रखा था, लेकिन उसको हार्ट डोनेट करने वाला कोई नहीं था, लेकिन वहीं पर एक एचआईवी पेशेंट की मौत हो गई थी जिसका हार्ट इस महिला को ट्रांसप्लांट किया गया और यह सफल भी रहा ।

7. एप्पल अब एप स्टोर पर और ज्यादा ऐडस दिखाएगा 

दोस्तों एप्पल भी अपने एप स्टोर पर ऐडस दिखाने वाला है ताकि वह और भी ज्यादा कमाई कर सके। लेकिन इसमें यूजर्स की प्राइवेसी का ज्यादा ध्यान रखा गया है जैसे कई सारी कंपनी होती है अगर आप उनकी वेबसाइट पर जाते हो और कुछ चीज़ें सर्च करते हो तो बाद में उस वेबसाइट से बाहर आने के बाद भी आपको उस तरह के ऐडस दिखना स्टार्ट हो जाते है । लेकिन एप्पल के पेज में अगर कोई ऐडस लगवाना चाहता है तो यह आपको काफी महंगा पड़ सकता है। लेकिन इससे एप्पल को भी अब बहुत फ़ायदा होने वाला है।

8. चीन के एक 27 साल के युवक को कोई भी जॉब पर नहीं रखना चाहता है क्योंकि इनका लुक्स एक 7 साल के बच्चें के जैसा है

दोस्तों चीन में एक 27 साल का युवक है जिसका नाम म्यू शेंग ( Mu Sheng ) हैं। यह देखने में एक 7 साल का बच्चा लगता है और इसी वजह से इसको कोई नौकरी पर रखने को तैयार नहीं है। जिसकी वजह से इसने टिकटोक का सहारा लेकर अपनी सारी प्रॉब्लम्स को जाहिर किया कि मुझे हर जगह से रिजेक्ट किया जा रहा है क्योंकि मेरा लुक थोड़ा सा बच्चे जैसा है जबकि मैं 27 साल का हूं और मैं अपनी फैमिली को फाइनेंशली सपोर्ट करना चाहता हूं। मेरी फैमिली की कंडीशन उतनी अच्छी नहीं है और मैं जॉब करना चाहता हूं लेकिन फिर भी मुझे जॉब नहीं मिल रही है। इस वीडियो के वायरल होने के बाद में इसको कई सारी कंपनी ने इंटरव्यू में बुलाया और उसके बाद में अब इसको जॉब मिल चुकी है तो टिकटोक इतना भी बुरा नही है यहां पर लोगों की मजबूरियों को भी दिखाया जाता हैं।

) 5G स्पेक्ट्रम ऑक्शन कंप्लीट हुआ 88000 करोड़ रूपये में

दोस्तों आप सभी को 5G स्पेक्ट्रम के ऑक्शन के बारे में पता ही होगा जो 28 जुलाई से स्टार्ट हुआ था । इसमें बड़ी-बड़ी टेलीकॉम कंपनियां जैसे रिलायंस जिओ , भारती एयरटेल , वोडाफोन-आइडिया बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रही है । इसमें एक एक नए ग्रुप की एंट्री हुई है अदानी ग्रुप ।अब जाकर यह ऑक्शन कंपलीट हुआ है जिसके अंदर रिलायंस जियो ने सबसे ज्यादा इंवेस्टमेंट किया है करीबन 88000 करोड़ रुपये। दूसरे स्थान पर आता है भारती एयरटेल जिसने 43000 करोड़ रुपये इन्वेस्ट किया है। तीसरे स्थान पर वोडाफोन आइडिया है जिन्होंने 19000 करोड़ रुपये इन्वेस्ट किए है और चौथे स्थान पर है अदानी ग्रुप जिसने 212 करोड़ रुपये इन्वेस्ट किए है।कुल मिलाकर करीबन 1,50,000 करोड़ रुपये में यह 5G स्पेक्ट्रम ऑक्शन कंप्लीट हुआ है।

Leave a Comment