आज के टाइम में Online Privacy , यह सोचना आपकी सबसे बड़ी गलतफहमी है

दोस्तों आज के टाइम में Online Privicy नाम की कोई चीज़ नहीं होती । आपको यही लगता होगा कि आप इंटरनेट पर कुछ भी करोगे तो किसी को पता नहीं चलेगा लेकिन यह आपकी सबसे बड़ी गलतफहमी है ।
आज हम आपको ऐसे 4 प्रूफ के बारे में बताएंगे जिससे आपको यह अंदाजा हो जाएगा कि आजकल की दुनिया में Online Privicy जैसी कोई चीज़ नहीं होती और आपका डेटा हर जगह जा रहा है लेकिन कुछ लोगों के लिए ऑनलाइन प्रीविसी कोई मायने नहीं रखती ।दोस्तों अगर आप चाहते है फ्यूचर में आपको किसी भी तरह की प्रोब्लम ना हो तो आपको अभी से इसकी तैयारी करनी होगी कि आप किस तरह से इन स्कैम से बच सकते है ।

1. Email का यूज़ अपनी Personal Chat के लिए ना करें

दोस्तों कई बार लोग Email का यूज़ अपने पर्सनल काम के लिए करते है लेकिन आपको ऐसा नहीं करना चाहिए।गूगल का ईमेल या फिर किसी भी कंपनी का ईमेल हमारे ईमेल में इंटरफेयर करते है और जब हम इनकी ईमेल सर्विस में Sign in करते हैं। अगर आपके ईमेल में कोई Infacted चीज पड़ी हुई है तो आपको क्या लगता है यह डिलीट कैसे होता होगा ? जब आप अपने Google Drive में ऐसी कोई वीडियो , डॉक्यूमेट्स या फिर Software को अपलोड करते है जो अनवांटेड & Malacious होते है तो यह उसे डिलीट कर देते हैं।
अब आपके माइंड में यह सवाल आ रहा होगा कि यह डिलीट कैसे करते है ? कोई भी चीज यह तभी देख पाते है जब यह आपके डाटा के ऊपर नजर रखते है ।इनके पास पावर होती है और अगर आपके ईमेल में कोई डेंजरस चीज़ पड़ी हुई है या फिर ऐसा कोई वायरस है जो इनकी कंपनी के लिए खतरा है तो यह उस फाइल या वीडियो को डिलीट भी कर देते है ।अब आप इस बात का अंदाजा लगा सकते है कि ईमेल में भी प्रीविसी नाम की कोई चीज़ नहीं है इसीलिए ईमेल में पर्सनल चैट करना आपको सबसे बड़ी गलती हो सकती है

2. GPS आपको हर वक्त ट्रैक करता है

दोस्तों क्या आपको पता है GPS भी आप पर कड़ी नजर रखता है । आपका GPS constantly आपके ऊपर नजर बनाएं रखता है जैसे आप कहां जा रहे हो , कब जा रहे हो?भले ही आपने अपने फोन का GPS disable कर रखा है फिर भी यह आपके ऊपर नज़र रखता है।दोस्तों आजकल ऐसे फोन आ गए है जो आपकी मर्ज़ी से नहीं चलते बल्कि अपने हिसाब से चलते है जैसे डाटा लीक करेंगे , आपकी GPS लोकेशन लीक करेंगे ऐसी बहुत सी चीजें करेंगे जो आप कभी नहीं चाहेंगे।अगर आपके पास एंड्रॉयड फोन है तो Google GPS लगातार आपको ट्रैक कर रहा है जैसे _ आप कहां जा रहे हो ? कौन-सी शॉप पर जा रहे हो ? वहां कितनी देर के लिए रुके हो ? कौनसे व्हीकल से जा रहे हो? यह सब जानकारी गूगल अपने पास रखता है ।हमारे फोन में बाय डिफ़ॉल्ट GPS ऑन ही रहता है और हम उसपर ज्यादा ध्यान नहीं देते है।अगर आप सोच रहे है कि चुपके से किसी से मिलने जा रहे है और किसी को पता भी नही चलेगा तो यह आपको सबसे बड़ी गलती है। Google के अंदर Timeline नाम का एक फीचर है जिसकी मदद से यह हर वक्त आपके ऊपर नजर बनाए रखता है ।

3. Browsing history & Social Media activity कभी डिलीट नहीं होती

दोस्तों आपमें से बहुत सारे लोग यह कहते है कि हम गूगल में जो भी चीज़ें सर्च करते है उसकी हिस्ट्री भी डिलीट कर देते हैं और कई बार तो Incognito Window का यूज़ करते हैं जिससे कुछ ट्रैक नहीं होता। अगर आप ऐसा सोचते है तो यह आपको सबसे बड़ी गलतफहमी है। कभी भी आपकी Browsing history & Social Media activity डिलीट नहीं की जा सकती मानो या ना मानो लेकिन वो हमेशा रहने वाला है । Service Provider के पास भी अब आपके सर्च और logs का डाटा रहता है । अब तो सरकार भी एक नई पॉलिसी लेकर आई है कि Service provider को पांच सालों तक यूजर का डाटा संभाल कर रखना होगा ।अगर आपने कोई अकाउंट बनाया है , सोशल मीडिया पर पब्लिकली कोई कोई पोस्ट डाली है तो वह पर्मानेंट रहने वाला हैं ।इन्टरनेट पर अगर आपने कोई चीज एक बार डाल दी तो वह कभी डिलीट नही होगा ।सच बात यह है कि जिस स्मार्टफोन का यूज़ आप कर रहे है वो आपका सगा नहीं है बल्कि उस कंपनी का एजेंट है जो हर वक्त आप पर नजर बनाएं रखता है ।

4. आप जो सोचते है उसकी भी आपको ads दिखने लगती है

आजकल एक बहुत अजीब से चीज़ हो रही है अगर आप कोई चीज प्रोडक्ट लेने के बारे में सोचते है तो आपको उन प्रोडक्ट की ads भी दिखनी स्टार्ट हो जाती है और 50% लोगों के साथ ऐसा हुआ है ।आपने बचपन में सुना होगा कि दीवारों के भी कान होते है लेकिन दीवारों का तो पता नहीं लेकिन आपके Smartphone के कान जरूर होते है । अगर आपके घर में कोई स्मार्ट स्पीकर रखा हुआ है और आप कुछ भी बात कर रहे हो जैसे _किसी प्रॉडक्ट के बारे , कही घूमने की बातें कर रहे हो तो आपको उसी के ऐडस नजर आने वाले है। इसका मतलब यह है कि आपका फोन लगातार आपकी बातें सुन रहा है या फिर आपके फोन में ऐसी कोई एप्लिकेशन हैं जिसको आपने 24 घंटे तक माइक एक्सेस दे रखा है या फ़ोन मैनुफैक्चर आपके फोन में ऐसे कोड डाल देते हैं । लेकिन हम एक बात जानते हैं कि टेक्नोलॉजी हमें cheat कर रही है।आपको क्या लगता है जितने भी चाइनीज स्मार्टफोन ब्रैंड है हमें उसकी एक-एक चीज़ disassembly करके देखते है?नहीं देखते । उनके कौन-सी एप्लीकेशन में , कौन से OS में , कौन सा कोड डाला हुआ है कुछ पता नहीं है ।अगर आप इन्टरनेट पर प्राइवेट रहना चाहते है हालांकि कंप्लीट प्राइवेसी जैसी कोई चीज़ नहीं होती लेकिन फिर भी आपको सेफ रहना है तो आपको यह पता होना चाहिए कि कौन सी सर्विस किसके लिए बनी होती है। अगर आप एक प्राइवेट चैट को अपने Fabcook story पर लगा रहे है तो यह आपकी गलती है। आपको ऐसे Perosnal Messages व्हाट्सएप पर करनी चाहिए , ना कि Facebooke में Story डालनी चाहिए।

अगर आप अपनी Privicy को 98% करना चाहते हो क्योंकि बाकी के 2% तो आप कभी पूरा नहीं कर सकते तो टेक्नोलॉजी का सही इस्तेमाल जरूरी है।

Leave a Comment