अब बॉयकॉट नथिंग

दोस्तों आप सभी को मालूम होगा कि नथिंग का फोन 1 लॉन्च हो चुका है जिसकी इनबॉक्सिंग आपने अपने कई सारे फेवरेट यूट्यूबर्स के चैनल्स के ऊपर देख ली होगी लेकिन इसी के ऊपर एक बवाल भी हुआ है जिसकी वजह से ट्विटर पर बॉयकॉट नथिंग ( #BoycottNothing )ट्रेंड कर रहा है और इसको बड़े-बड़े टैक यूट्यूबर्स ही करवा रहे हैं । यही पर बात कर लेते है नथिंग कंपनी के सीईओ कार्ल पाई ( Carl Pei ) की जिन्होंने अपना पहला नथिंग का फोन लॉन्च किया है जिसका लॉन्चिंग इवेंट इतना ज्यादा बड़ा नहीं था और इतना ज्यादा खास भी नहीं था पहले जिस तरह से हाइप क्रिएट हो रही थी उससे लग रहा था कि इसका लॉन्चिंग इवेंट भी आईफोन की तरह ही करेंगे लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ बल्कि इनका गैराज टाइप का अजीब सा सेटअप था और उसी के अंदर से लॉन्चिंग हो गई थी। 

अगर इनके फोन का बॉक्स देखे तो उसमें भी चार्जर मौजूद नहीं है लेकिन जिस तरीके का बॉक्स था उसको देखने पर आपको ऐसा लगेगा कि इन्होंने फोन भेजा या ps5 की DVD इसके बॉक्स के अंदर आपको दो केस मिल जायेंगे जिसके अंदर एक बंप केस होगा जोकि किनारों को प्रोटेक्ट करेगा और दुसरा ट्रांसपेरेंट केस भी होगा जोकि पूरे के पूरे फोन को प्रोटेक्ट करेगा । इसकी लॉन्चिंग से अभी तक हमें बस यही देखने को मिल रहा था कि वाइट फोन होगा लेकिन बाद में मालूम चला कि व्हाइट भी है और ब्लैक भी है।दरअसल देखने में ब्लैकवाला ज्यादा अच्छा लग रहा है क्योंकि इसमें जो एलईडी लाइट्स है उनका कॉन्ट्रास्ट सही बन जाता है और व्हाइट के अंदर ज्यादा ब्राइटनेस फैल जाता है।  

फोन के अंदर बाकी स्पेसिफिकेशन तो दूसरे फोन के जैसी ही है लेकिन इसका जो एक्स फैक्टर है वह इसके बैक पैनल की एलईडी लाइट और ट्रांसपेरेंट बैकपैनल है हालांकि फोन मिड रेंज वाला है और स्पेसिफिकेशन भी मिड रेंज वाली है लेकिन देखने में प्रीमियम लगता है यही इसका एक्स फैक्टर है और ऊपर से ओएस इतना ज़्यादा क्लीन है जिसके अंदर कोई भी ब्लोटवेयर ऐप आपको मिलने नहीं वाली है। अगर आप इस फोन बैकसाइड में एप्पल का लोगो लगा लेते हो तो यह फोन कमाल ही लगेगा ।बाहर के देशों में कई सारे यूट्यूब फोन को मॉडिफाई जरुर करेंगे।

 अब बात करते हैं अब बॉयकॉट नथिंग जोकि ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है दरअसल यह कारनामा किया है साउथ इंडिया के टैक यूटुबर ने उसने अपने प्रिंटर से ही एक पेज प्रिंट कर दिया जिसमें लिख था कि नथिंग का फोन साउथ इंडियन लोगों के लिए नहीं है ऐसा उसका मानना है अब उसके बाद में जो उसके व्यूअर थे वह भी भड़क गए।उसके बाद में उसने एक ट्रेंड चला दिया बॉयकॉट नथिंग का जो कि ट्विटर के ऊपर भी ट्रेंड करने लग गया क्योंकि बहुत से साउथ इंडियन यूट्यूबर इसके साथ में जुड़ गए ।यह बॉयकॉट नथिंग इसीलिए चलाया गया क्योंकि इन साउथ इंडियन टैक यूट्यूबर्स को नथिंग की तरफ से कोई रिव्यू यूनिट नहीं मिला था हालांकि हिंदी और इंग्लिश चैनल के बड़े बड़े टैक यूट्यूबर्स को रिव्यू यूनिट दिया गया था जबकि साउथ इंडिया के जो बड़े-बड़े टैक यूट्यूबर्स थे उनको नहीं दिया गया इनको इसी बात का गुस्सा था कि यह अपने रीजनल लैंग्वेज में अपने टैक चैनल को चलाते हैं जैसे तेलगु , तमिल , मलयालम ,या फिर कोई और साउथ इंडियन लैंग्वेज हो गई तो उनको यह रिव्यू यूनिट नहीं मिला था शायद इसी वजह से क्योंकि यह हिन्दी और इंग्लिश नहीं बोलते या फिर अपनी लैंग्वेज मे अपना यूटयूब चैनल चलते है जिसकी वजह से इन्होंने यह सारी चीजें ट्रेंड पर लगा दी ।

यहां पर अगर देखा जाएं तो इनकी बात सही भी है क्योंकि नथिंग का फोन तमिलनाडु के अंदर ही मैन्युफैक्चर किया जा रहा और वही के यूट्यूबर्स को इग्नोर किया जा रहा है। बस बड़े-बड़े हिंदी और इंग्लिश के चैनलों को ही दिया जा रहा है अपना रिव्यू यूनिट और और हमें इग्नोर किया गया है क्योंकि हमारी लैंग्वेज हिन्दी और इंग्लिश नहीं है ।लेकिन साउथ इंडियन यूट्यूबर्स को एक बात समझनी चाहिए कि तुम भी गलत कर रहे हो इस तरीके का ट्रेंड चलाकर क्योंकि इस समय यह लोग अपने लिए लड़ कर रहे हैं अभी साउथ इंडिया वाली फाइट चल रही कि साउथ इंडियन को इग्नोर किया गया तो इनको समझना चाहिए कि इंडिया के अंदर 122 लैंग्वेजेस है और कई सारे यूट्यूबर्स वह लैंग्वेज भी बोलते होंगे जो हमें मालूम भी नहीं है जोकि इन 122 में आती है हम सिर्फ हिन्दी और इंग्लिश बोलते है ।

अगर यह फाइट लैंग्वेजेस की है तो सबको मिलकर सारी लैंग्वेजेस के बारे में बोलना चाहिए ऐसे नही कि सिर्फ साउथ इंडिया को इग्नोर किया गया तो बस उसकी वजह से यह ट्रेंड चलाया जा रहा है लेकिन हां कुछ बड़े साउथ इंडियन टैक यूट्यूबर्स को नहीं मिली तो उन्होंने अपने व्यूअर्स का फायदा उठाकर ट्रेंड करवा दिया बॉयकॉट नथिंग जबकि अगर सर्च करने बैठोगे तो बहुत सारे ऐसे हिंदी और इंग्लिश यूट्यूबर्स भी निकलेंगे जोकि कैमरा कंपेरिजन करते है उनके पास में इतनी जल्दी फोन आता भी नही उनको तो रिव्यू यूनिट मिलती भी नही है वो अपने पैसे से उस फोन को खरीदते थे और उसके बाद में कैमरा कंपेरिजन करते हैं।उन्होंने तो कभी नहीं कहा कि हमें रिव्यू यूनिट नहीं मिल रही।

 अगर आप नथिंग का लॉन्चिंग इवेंट देखो तो इतना ज्यादा खास भी नहीं था गैरेज के अंदर लॉन्चिंग कर रहे हैं और अभी नई नई कंपनी है तो इनको समझने के लिए थोड़ा टाइम लगेगा कि कहां पर क्या है, किसको रिव्यू यूनिट देना है। इन्होंने पता नहीं कितनी कंट्री के अंदर बड़े बड़े यूट्यूबर्स को यह फोन पकड़ाकर किसी भी तरीके से दिखा दिया होगा कि फोन इस तरीके का है और इसे ख़रीद लो । किसी भी चीज़ को समझने में थोड़ा टाइम लगता है ऐसा नहीं कि हमें नहीं मिली रिव्यू यूनिट तो हम अपने व्यूअर्स का फायदा उठाकर हमारे पास मिलियन ऑफ सब्सक्राइबर्स है हमें कैसे इग्नोर कर दिया तो उन्होंने सोचा कि चलो इसको ट्रेंड करवाते हैं और किसी तरीके से बॉयकॉट नथिंग करके अपनी हाइप क्रिएट कर देते हैं। अगर देखा जाए तो फिर गूगल को भी बॉयकॉट कर देना चाहिए क्योंकि गूगल ने अपनी पिक्सेल सीरीज इंडिया के अंदर इसलिए लॉन्च नहीं करी क्योंकि इनके बस की तो खरीदना ही नहीं है। आज तक वो कभी ट्रेंड होते हुए नहीं देखा लेकिन हां हमे फ्री का रिव्यू यूनिट नहीं मिला तो चलो इसको ट्रेंड करते है ।अगर सभी यूटूबर्स कहने लग जाए कि हमें नहीं रिव्यू यूनिट नहीं मिला तो बवाल ही हो जाएगा क्योंकि नई कम्पनी है तो किसी भी चीज़ को समझने में थोड़ा टाइम तो लगता है ।

Leave a Comment